BIHAR NEWS : शराब के धंधेबाज डॉक्टर को पुलिस ने किया गिरफ्तार, नर्सिंग होम की आड़ में चलता था मिनी शराब फैक्ट्री

BIHAR NEWS : शराब के धंधेबाज डॉक्टर को पुलिस ने किया गिरफ्तार, नर्सिंग होम की आड़ में चलता था मिनी शराब फैक्ट्री

VAISHAI : पुलिस के साथ चूहा बिल्ली का खेल खेल रहे रहे दवा से शराब बनाने वाला डॉक्टर गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद पता चला यह कोई छोटा मोटा नहीं, बल्कि अवैध शराब के धंधे की बड़ी मछली है। बिहार के कई जिलों के अलावा कई राज्यों में भी इसके तार फैले हुए हैं। अवैध शराब फैक्ट्री में छापेमारी के दौरान पकड़ा गया डॉक्टर मौके से फरार हो गया था। जिसे देर शाम नवादा चेक पोस्ट से गिरफ्तार कर लिया गया है। बताया गया कि गिरफ्तारी के वक्त भी झोलाछाप डॉक्टर शराब की खेप लाने ही गया था। डॉक्टर की गिरफ्तारी के बाद उत्पाद विभाग ने राहत की सांस ली है। क्योंकि छापेमारी के दौरान गिरफ्तार होने के बावजूद डॉक्टर मौके से फरार हो गया था। जिसके बाद उत्पाद विभाग की काफी किरकिरी हुई थी। 


बता दें कि गुप्त सूचना के आधार पर उत्पाद विभाग की टीम सदर थाना क्षेत्र के सुभई पहुंची थी। जहां एक निजी नर्सिंग होम का बैनर लगाकर शराब फैक्ट्री चलाया जा रहा था।  इस फैक्ट्री में दवा से महंगे विदेशी बढ़ाने के शराब बनाए जा रहे थे।  साथ ही टेट्रा पैक का भी निर्माण किया जा रहा था। मौके से लगभग एक ट्रक के आसपास कच्चा और तैयार शराब बरामद किया गया था। साथ ही पंचिंग मशीन और रैपर भी मौके से बरामद किया गया था।  तब भागने के क्रम में आरोपी डॉक्टर सुरेश कुमार को उत्पाद विभाग की टीम ने गिरफ्तार कर दिया था और उसके हाथ में रस्सी बांध कर उसे रखा गया था। लेकिन तभी बिजली कटी और अंधेरे का फायदा उठाकर वह फरार हो गया था।  जिसके बाद डॉक्टर को पटना से गिरफ्तार किया गया है। 

इस विषय में उत्पाद अधीक्षक विजय शेखर दुबे ने बताया कि पुलिस छापेमारी कर एक प्राइवेट अस्पताल की आड़ में चलाए जा रहे नकली शराब की फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया था।  जहां से एक झोलाछाप डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसके हाथ बांध कर कुर्सी पर बैठाया गया था।  इसी बीच लाइट कटी और वह अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकला था। जिसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही थी। 

इसी क्रम ने उसे पटना से गिरफ्तार किया गया है। पकड़ा गया आरोपी अवैध शराब का बड़ा धंधेबाज है। इसके तार कई जिलों से जुड़े हुए हैं।  यह अन्य राज्यों से शराब मंगवाने का काम करता था और फिर दवा और अन्य केमिकल से बड़े ब्रांडों का डुप्लीकेट शराब बनाता था। इसके फरार होने के बाद यह शराब की डिलीवरी लेने जा रहा था। जब इसे गिरफ्तार किया गया। 

वैशाली से राजकुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News