अलोकप्रिय! CM नीतीश को सरकारी सोशल मीडिया FB पर LIVE 100 लोग भी नहीं देखते, मुख्यमंत्री को 60 तो मंत्री को 50 लोग सुन रहे थे

अलोकप्रिय! CM नीतीश को सरकारी सोशल मीडिया FB पर LIVE 100 लोग भी नहीं देखते, मुख्यमंत्री को 60 तो मंत्री को 50 लोग सुन रहे थे

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज स्वास्थ्य विभाग की कई योजनाओं का शुभारंभ किया। संवाद में आयोजित कार्यक्रम में सीएम नीतीश ने ई-संजीवनी, अश्विन, 102 एम्बुलेंस ट्रैकिंग सिस्टम और वांडर ऐप का शुभारंभ किया।इसके अलावे मुख्यमंत्री की मौजूदगी में जीविका दीदी की रसोई का एमओयू साइन किया गया। सीएम नीतीश ने कोरोना जांच में गड़बड़ी पर सीधे-सीछे कुछ नहीं बोला। वहीं स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव की खूब पीठ थपथपाई।सीएम नीतीश ने अपने संबोधन में कहा कि स्वास्थ्य विभाग काफी अच्छा काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज की तारीख में सोशल मीडिया काफी मजबूत स्थिति में है। सरकार काफी अच्छा काम कर रही है।सीएम नीतीश ने अपने अधिकारियों से कहा कि अपने कामों का सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार-प्रसार करिये।

सरकारी फेसबुक पेज पर CM नीतीश और मंत्रियों को व्यूअर मिलते ही नहीं 

सोशल मीडिया में बिहार सरकार के कामों के प्रति लोग कितने आकर्षित हैं और मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों को सोशल मीडिया में चाहने वाले कितने लोग हैं इसकी बानगी देखिए.....। रविवार को स्वास्थ्य विभाग की तरफ से आयोजित कार्यक्रम जिसमें खुद मुख्यमंत्री शामिल थे। बिहार सरकार के आईपीआरडी के सोशल मीडिया प्लेटफार्म से उस कार्यक्रम का प्रसारण किया जा रहा था। लेकिन सरकारी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर बिहार या बिहार के बाहर के लोग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और मंत्रियों को देखना-सुनना पसंद नहीं कर रहे थे। स्थिति यह थी कि आईपीआरडी के फेसबुक पेज पर 100 लोग भी कार्यक्रम नहीं देख रहे थे। पूरे कार्यक्रम के दौरान एक साथ 40-60 लोग ही अपने मुख्यमंत्री का कार्यक्रम देखने जुड़ रहे थे। स्वास्थ्य विभाग के मंत्री मंगल पांडेय जब भाषण दे रहे थे उस समय उन्हें पचास लोग भी नहीं देख रहे थे। वहीं डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद और रेणू देवी को भी सरकारी फेसबुक पेज पर बड़ी मुश्किल से पचास व्यूअर मिल रहे थे। मुख्यमंत्री की बात करें तो वे जब भाषण कर रहे थे तब 50-60 लोग उनका भाषण आईपीआरडी के पेज पर सुन रहे थे। अब आप इसी से समझ सकते हैं कि बिहार के लोग सीएम नीतीश और उनके मंत्रियों का भाषण सुनना कितना पसंद करते हैं। वहीं सरकारी यूट्यूब पर 100 से अधिक लोग एक साथ कार्यक्रम देख रहे थे। वहीं,अगर विपक्षी नेताओं की बात करें तो नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अगर फेसबुक लाइव करते हैं तो एक साथ हजारो लोग लाइव जुड़ते हैं. 

मंगल पांडेय को सिर्फ 43 लोग देख रहे थे तो सीएम नीतीश को 61

प्रत्यय अमृत का किया गुणगान

वहीं कोरोना जांच में फर्जीवाड़ा के बारे में सीएम नीतीश ने कहा कि कोरोना जांच,वैक्सिनेशन में बिहार ने काफी अच्छा काम किया है लेकिन कुछ लोग गड़बड़ करने वाले होते हैं। वो गड़बड़ करेंगे लेकिन कुल मिलाकर काफी बेहतर काम हुआ है।हालांकि सीएम नीतीश ने कोरोना जांच में गड़बड़ी होने को सीधे तौर पर स्वीकार नहीं किया लेकिन इशारो-इशारों में कहा कि कुछ लोग गड़बड़ करेंगे लेकिन हमें बेहतर काम करना है।वहीं सीएम नीतीश ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अम़ृत के कामों का बखान किया और कहा कि ये बहुत अच्छा काम कर रहे हैं.

तेजस्वी पर बोला हमला

 मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में बिना नाम लिये तेजस्वी यादव पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जीविका दीदीयों को समृद्ध कर रहे लेकिन कुछ लोग इन्हें भी भड़का रहे हैं। सोशल मीडिया पर कुछ-कुछ लिखकर भड़काया जा रहा है। लेकिन जो लोग भड़का रहे उनको ए.बी.सी.डी पता है क्या ? हमलोगों ने स्वयं सहायता समूह बनाया और नामकरण जीविका किया। हमारे नाम का केंद्र सरकार ने अपनाया और नाम दिया आजीविका। तेजस्वी यादव पर सीधा हमला बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि कुछ लोग रहता नहीं बिहार में लेकिन सोशल मीडिया पर कुछ-कुछ लिखते रहता है। उनको कुछ जानकारी है नहीं लेकिन उल्टा-पुल्टा लिखते रहना है। 

शहरी क्षेत्र में 20 मिनट में भेजेंगे एंबुलेंस

स्वास्थ्य विभाग के मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि सीएम नीतीश ने जो जिम्मेदारी दी है उसे मैं पूरा कर रहा हूं। स्वास्थ्य क्षेत्र में लगातार काम किये जा रहे हैं. पीएमसीएच को नये सिरे से विस्तारित किया जा रहा है। पीएचसी से लेकर जिला स्तर और राज्य स्तर के अस्पतालों में व्यवस्था को सुदृद्ध किया जा रहा है। सीएम नीतीश कुमार का स्पष्ट निर्देश है कि स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए पैसे की कोई कमी नहीं होगी। मंगल पांडेय ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि शहरी क्षेत्र में 20 मिनट में और ग्रामीण क्षेत्र में 35 मिनट में एंबुलेंस पहुंचाने का लक्ष्य है। एक वित्तीय वर्ष में यह काम पूरा करेंगे। एक हजार एंबुलेंस का और भी इंतजाम किया जाएगा।

सीएम नीतीश का लालू-राबड़ी सरकार पर तंज

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि जब से हमें काम करने का मौका मिला है तभी से स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम  शुरू किया। आज पीएचसी से लेकर राज्य के अस्पताल को सुदृढ़ किया गया है। पहले क्या स्थिति थी यह कहने की जरूरत नहीं। 2006 में सबसे पहले हमलोगों ने इसकी समीक्षा कराई कि पीएचसी में कितने मरीज इलाज के लिए जाते हैं? सर्वे किया गया तो पता चला कि एक दिन में एक पीएचसी में औसतन प्रति दिन एक मरीज ही अस्पताल जाता था। किसी-किसी दिन 2 मरीज अस्पताल जाते थे। सीएम नीतीश कुमार बिना नाम लिये लालू-राबड़ी राज के बहाने तेजस्वी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आज तो कुछ लोग कुछ-कुछ बोलते रहते हैं। आज सोशल मीडिया का जमाना है इसलिए कुछ-कुछ लिखते रहना है। लेकिन पहले क्या स्थिति थी आज क्या स्थिति है यह बताना जरूरी है। हम हमेशा इसका उल्लेख करते हैं। 

ग्रामीण विकास विभाग के सचिव को अभी नहीं छोड़ेंगे

ग्रामीण विकास विभाग के सचिव अरविंद चौधरी के बारे में सीएम नीतीश ने कहा कि इन्होंने पंद्रह सालों से जीविका दीदीयों के बारे में काम कर रहे हैं। हम इनको अभी नहीं छोड़ेंगे,लक्ष्य प्राप्ति के बाद ही इनको हम यहां से जाने देंगे। 


Find Us on Facebook

Trending News