माँ की मौत के दो दिन बाद ही कमांडो बेटे ने तोड़ा दम, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

माँ की मौत के दो दिन बाद ही कमांडो बेटे ने तोड़ा दम, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

AURANGABAD : जिले में अभी मां की चिता बुझी भी नही थी कि बेटा का अर्थी भी अर्थी निकल गया. घटना रफीगंज थाना क्षेत्र के मखदुमपुर गाँव की बताई जा रही है. बताते चलें की रफीगंज थाना क्षेत्र के मखदुमपुर निवासी एसटीएफ के सीनियर कमांडो अजीत कुमार का आज इलाज के दौरान गया मगध मेडिकल कॉलेज  में निधन हो गया. अजीत कुमार की मौत की खबर सुनकर पूरे गांव में मातम छाया हुआ है. 2 दिन पूर्व ही अजीत कुमार के माता अंजना सिन्हा का भी निधन हो गया था. मृतक के पिता उपेंद्र यादव ने बताया कि मेरे बेटा लखीसराय में एसटीएफ कैंप में सीनियर कमांडो के पद पर पदस्थापित था. 

21 अप्रैल को मेरे बेटा के 1 दोस्त करोना पॉजिटिव हो गए थे. जिसका देखभाल मेरा बेटा कर रहा था. इसी क्रम में वह बुखार से ग्रसित हो गया. उसने एक निजी अस्पताल में बुखार का इलाज करवाया. लेकिन दो दिनों तक बुखार ठीक नहीं होने पर लखीसराय के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोविड-19 का जांच करवाया. जहां उसका रिपोर्ट पॉजिटिव आया. कोविड-19 के जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर अपने बेटे को 24 अप्रैल 2021 को गया जिला के आमस थाना क्षेत्र के चंडीस्थान में एक निजी क्लीनिक में इलाज के लिए भर्ती करवाया. जहां ऑक्सीजन के अभाव में स्वास्थ्य में सुधार नहीं होने पर 27 अप्रैल 2021 को दोपहर 12:00 गया मगध मेडिकल में भर्ती करवाया. जहां 27 अप्रैल को ही शाम 6:00 बजे के आसपास डॉक्टरों ने मेरे बेटे को मृत घोषित कर दिया. 

आपको बता दें कि अजीत कुमार की शादी 2004 में गया जिला के आमस थाना क्षेत्र के चंडीस्थान निवासी संगीता देवी के साथ हुई थी. जिनकी 1 वर्ष 2 माह की एक बच्ची भी है. सारे परिवार को रो-रोकर बुरा हाल है. मृतक के पिता उपेंद्र यादव ने कहा कि मैं अपने पोती अनुभा यादव और बहु संगीता देवी को फौजी बनाना चाहता हूं ताकी मेरी बहू और पोती देश की सेवा करें. इस दुखद: घटना को सुनकर जिला के कई नेताओ ने परिजन से मिलकर हिम्मत, साहस एवं धैर्य दिया तथा मृत आत्मा की शांति की कामना की. 

औरंगाबाद से दीनानाथ मौआर की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News