लोकसभा चुनाव 2019: पापा और मां को संसद पहुंचाने के लिए खूब पसीना बहा रही ये बेटियां

PATNA: पापा और मां को संसद पहुंचाने के लिए बेटियों ने पूरी ताकत झोंक दी है. बेटियां अपनी कैरियर को छोड़ इस चिलचिलाती धूप में मां और पिता के लिए लिए खूब पसीना बहा रही हैं. हम बात कर रहे हैं बिहार के बांका लोकसभा क्षेत्र के बेटियों की. गोल्डेन गर्ल नाम से चर्चित श्रेयसी सिंह अपनी मां के लिए तो शिवांगी प्रकाश और सैफाली राय अपने पिता के लिए इस तपती दुपहरी में घर-घर जाकर वोट मांग रही है. दरअसल बांका लोकसभा क्षेत्र की लड़ाई काफी दिलचस्प मोड़ पर आ गयी है. लिहाजा अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रत्याशियों ने पूरी ताकत झोंक दी है. राजद की तरफ से एक बार फिर से जयप्रकाश नारायण यादव मैदान में हैं. वहीं जदयू ने गिरधारी यादव को मैदान में उतारा है. जबकि पूर्व सांसद पुतुल कुमारी बीजेपी से बगावत कर चुनाव मैदान में उतरी हैं. पुतुल कुमारी के चुनावी मैदान में उतरने के बाद बांका के रण में त्रिकोणात्मक लड़ाई फंस गयी है. हर प्रत्याशी जीत के लिए हर दांव आजमा रहा है.

पुतुल के लिए श्रेयसी लगा रही निशाना

निर्दलीय प्रत्याशी पूर्व सांसद पुतुल कुमारी के लिए उनकी निशानेबाज बेटी जिसे गोल्डेन गर्ल के नाम से जाना जाता है वह मोर्चा संभाले हुई है. पुतुल कुमारी की बेटी श्रेयसी सिंह डोर-टू-डोर घूमकर अपनी मां को जीताने की अपील कर रही है. तपती दोपहरी की परवाह किए बिना श्रेयसी सिंह बांका संसदीय क्षेत्र के गांवों में जा रही है ,गांव की महिला-पुरूष से मिलकर अपनी मां की मदद करने की आहवान कर रही है.

दिव्या प्रकाश-सैफाली खूब बहा रही पसीना

वही हाल राजद कैंडिडेट जयप्रकाश यादव की बेटियों का है. जयप्रकाश नारायण यादव की बेटी दिव्या प्रकाश और सैफाली राय अपनी पिता के लिए खूब मेहनत कर रही है. दोनों बेटियों के जिम्मे घर-घर जाकर मतदाताओं से मिलना है. इस मिशन में दोनों बेटियां पूरी ताकत के साथ लगी है. सुबह-सुबह सैफाली और शिवांगी प्रकाश चुनाव प्रचार के लिए क्षेत्र में निकल जा रही है और चिलचिलाती धूप की परवाह किए बिना  बेटी होने का फर्ज निभा रही है. जयप्रकाश नारायण यादव की एक बेटी वकील है तो दूसरी हाउस वाईफ है. दोनों इन दिनों अपना काम छोड़कर अपने पिता को को जीताने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही है. वहीं जयप्रकाश यादव के छोटे भाई विजय प्रकाश की पत्नी जो बांका की जिलापरिषद अध्यक्षा हैं वे भी चुनाव प्रचार में डटी हैं. यहां बता दें कि बांका में दूसरे चरण में चुनाव होनें हैं. 18 अप्रैल को बांका में वोटिंग होनी है. चुनाव प्रचार की अंतिम समय सीमा 16 अप्रैल तक ही है. लिहाजा चुनाव प्रचार पूरे शबाब पर है. अब देखना होगा कि इन बेटियों की मेहनत का कितना असर होता है और कौन उम्मीदवार जीत कर संसद तक पहुंचता है. 



Find Us on Facebook

Trending News