अवैध बालू खनन के खिलाफ कार्रवाई करने गयी खनन विभाग की टीम पर माफियाओं ने किया हमला, कई घायल

अवैध बालू खनन के खिलाफ कार्रवाई करने गयी खनन विभाग की टीम पर माफियाओं ने किया हमला, कई घायल

भागलपुर. जिले के सजौर थाना क्षेत्र के कमलपुर में रात एक बजे अवैध बालू खनन और परिवहन के खिलाफ छापेमारी करने पहुंचे बांका व भागलपुर के खनन पदाधिकारी की टीम पर बालू माफियाओं ने ईंट-पत्थर, लाठी डंडा और हरवे हथियार से हमला कर पांच वाहनों को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया. साथ ही जब्त ट्रैक्टर के सहारे 30 फीट गहरी अंधरी नदी के खाई में पलट दिया.

रात के अंधेरे में हुई झड़प में अमरपुर थाना क्षेत्र के कुसमखर, बासुदेवपुर व सजौर के हाजीपुर, कमलपुर के बालू माफियाओं का हाथ बताया जा रहा है. ग्रामीण छापेमारी टीम पर हमले के समय गोली चलने की आवाज आने की बात कह रहे हैं. बालू माफियाओं के हमले में टीम के कई जवानों व अधिकारियों के घायल होने की बात कही जा रही है. टीम में शामिल एक उम्रदराज अधिकारी का दम फुलने से तबीयत बिगड़ने पर स्थानीय लोगों ने देखभाल की. पुलिस ने घायलों को रात में ही दूसरे वाहन से घटनास्थल से आनन-फानन में हटा दिया.

जानकारी के अनुसार रात एक बजे बांका व भागलपुर के जिला खनन पदाधिकारी अपने दल बल के साथ अवैध बालू लदे वाहनों पर कार्रवाई के लिए अमरपुर के कुशुमखर, बासुदेवपुर से शुरू कर सजौर के हाजीपुर होते हुए कमलपुर गांव से बाहर आइसक्रीम फैक्ट्री के पास अंधरी नदी के पास पहुंचे. इस दौरान बालू माफियाओं ने कमलपुर गांव में टायर, ताड़ की लकड़ी और पुआल जलाकर सड़क जामकर टीम को पीछे मुड़ने के रास्ते को बंद कर जमकर उत्पात मचाया.

इस दौरान कई स्थानीय ग्रामीणों ने माफिया को आग लगाने से मना किया, जिससे बालू माफियाओं की भिड़ंत हो गई. मौके पर पहुंची पुलिस को देख माफिया भाग गये. गुस्साई पुलिस ने भोले-भाले स्थानीय ग्रामीण विभाष कुमार की डंडे से पिटाई कर दी. घंटों चले तांडव में खनन पदाधिकारी की टीम पर ईंट पत्थर से हमलाकर जब्त वाहनों को छुड़ा लिया. वाहनों में तोड़फोड़ कर सभी वाहनों को ट्रैक्टर से अंधरी नदी के तीस फीट गहरी खाई में ट्रैक्टर से धकेल दिया. बालू माफियाओं के हमले से घबराई घायल छापेमारी टीम जान बचाकर भाग गई. छापेमारी टीम के घटनास्थल से हटते ही माफिया जब्त वाहन लेकर फरार हो गये.

छापेमारी टीम के साथ सजौर पुलिस भी थी, लेकिन घटना के वक्त पुलिस गश्ती दल आगे निकल चुकी थी. तड़के चार बजे जेसीबी लेकर पहुंचीं सजौर थाना प्रभारी ने क्षतिग्रस्त वाहनों को नदी से निकाल कर सजौर थाने पर रखा है. सजौर थाना प्रभारी महाश्वेता सिन्हा ने बताया कि छापेमारी टीम के पांच वाहन क्षतिग्रस्त हैं.

Find Us on Facebook

Trending News