राजकीय समारोह के रूप में मनाई जाएगी महाराणा प्रताप की जयंती, जदयू नेता छोटू सिंह ने नीतीश सरकार के फैसले का किया स्वागत

राजकीय समारोह के रूप में मनाई जाएगी महाराणा प्रताप की जयंती, जदयू नेता छोटू सिंह ने नीतीश सरकार के फैसले का किया स्वागत

PATNA : बिहार सरकार की ओर से महाराणा प्रताप की जयंती 9 मई को पटना में राजकीय समारोह के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इसका निर्णय लिया गया है। नीतीश सरकार के इस निर्णय का बिहार नागरिक परिषद् के पूर्व अध्यक्ष और जदयू नेता अरविन्द कुमार सिंह उर्फ़ छोटू सिंह ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार देश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जो राज्य के सभी जाति, धर्म और समुदाय के लोगों को साथ लेकर चलते हैं। 

छोटू सिंह ने कहा की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हर धर्म और जाति को ध्यान में रखकर योजनाओं का रूप रेखा तय करते हैं। उन्होंने पंचायती राज संस्थाओं में महिलाओं को 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया। जिसका लाभ हर जाति और धर्म के लोगों को महिलाओं को मिलती है। वहीँ सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 35 फीसदी आरक्षण दिया गया है। जिसका लाभ सभी को मिलता है। छात्रों के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड जैसी योजना चलाई जाती है। जिसका लाभ बिना किसी जाति और धर्म को देखकर दिया जाता है। सात निश्चय योजना की बात करें या लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान की। यह किसी जाति और धर्म के बजाय सभी को मिलता है। अल्पसंख्यक समाज के लिए भी उन्होंने कई योजनायें चलायी। खासकर प्रोत्साहन योजना की बदौलत इस साल पांच छात्रों ने सिविल सर्विस परीक्षा पास की है। 

छोटू सिंह ने कहा की मुख्यमंत्री के कार्यकाल में बिहार में कानून व्यवस्था, बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य सहित सभी क्षेत्रों में विकास की ओर अग्रसर है। अब दुसरे राज्यों में बिहारी कहलाना अपमान नहीं, सम्मान की बात है। राज्य में कई बड़े शिक्षण संस्थान, अस्पताल, इंजीनियरिंग कॉलेज और मेडिकल कॉलेज का निर्माण कराया गया है। जिसमें बिना किसी भेदभाव के छात्रों की पढाई होती है। उन्होंने हर समाज के महापुरुषों को सम्मान देने का भी पूरा प्रयास किया है। इसी कड़ी में वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप के जयंती को राजकीय समारोह के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है, जो नीतीश सरकार की सभी जाति,धर्म की सम्मान की भावना का जीता जागता उदाहरण है।  


Find Us on Facebook

Trending News