60 लाख ₹ के लिए डोसा बनाते बनाते बन गया हत्यारा, प्रेमिका और उसके तीन बच्चों की गला रेतकर की निर्मम हत्या

60 लाख ₹ के लिए डोसा बनाते बनाते बन गया हत्यारा,  प्रेमिका और उसके तीन बच्चों की गला रेतकर की निर्मम हत्या

BAHRAICH :  प्रेम के झूठे जाल में फंसाकर पहले तो उसने घर बिचवा दिया, फिर घर बेचने से मिले पैसों को भी हड़प लिया। जब महिला शादी के लिए  दवाब बनाने लगी, तो युवक उससे पीछा छुड़ाने की कोशिश में जुट गया और आखिरकार अपने दो साथियों के साथ मिलकर न सिर्फ अपनी प्रेमिका, बल्कि उसके तीन बच्चों की भी निर्मम तरीके से हत्या कर दी। जिसमें दो शव फखरपुर के गजाधरपुर ग्राम पंचायत के बसंतापुर संपर्क मार्ग पर सड़क किनारे गन्ने के खेत में मिले। वहीं अगले दिन महिला और उसकी चार साल की बेटी का शव लखनऊ-बहराइच हाईवे से 100 मीटर की दूरी पर स्थित ग्राम पंचायत माधवपुर निवासी रामगोपाल के धान के खेत से चार वर्षीय बालिका व बालकराम के गन्ने के खेत से बरामद किया गया। यह सारी घटना बीते 11 और 12 सितंबर को हुई, तब से पुलिस चारों के शव की शिनाख्त में जुटी थी, जिसमें आखिरकार पुलिस ने आरोपी प्रेमी सहित हत्या में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।  आठ वर्ष के लड़के व 10 वर्ष की लड़की की हत्या करके शव खेत में फेंक दिया।

मामला बहराइच के बालचंदपुर थाना से जुड़ा है। घटना को लेकर पुलिस महानिरीक्षक डा. राकेश सिंह ने बताया कि ननकू पुत्र मुबारक अली निवासी ग्राम ततेहरा,  बालचन्दपुर थाना फखरपुर जनपद बहराइच अपने गांव से महाराष्ट्र राज्य के जिला थाणे के दिवा में  एक इडली डोसा की दुकान में काम करता था, जहां पर ननकू की मुलाकात मैरी से हुई जो अपने पति से पृथक अपने पिता और भाई के साथ रह रही थी। वह भी उसी दुकान पर नौकरी करती थी। वहीं पर ननकू एवं मैरी की  दोस्ती हुई एवं आपस मे प्रेम सम्बन्ध बने। लगभग 04 माह पूर्व ननकू के कहने पर मैरी ने अपनी खोली (मकान) बेच कर रुपये ननकू को दे दिया। मैरी लगातार ननकू के ऊपर शादी करने का दबाव बनाती थी।  ननकू के गांव चलने व शादी का दबाव डालने पर ननकू परेशान हो गया।

इस तरह पहुंचे अपरारधियों तक

आईजी ने बताया कि जांच के दौरान ग्रामीणों ने हत्यारों का हुलिया बताया तो टीम ने लखनऊ जाने वाले मार्ग पर होटल व ढाबे पर सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू किए जिसमें कुछ जगहों पर हुलिया व उम्र मिलती दिखी तस्वीरें व फुटेज सामने आए। उसके बाद टीम ने लखनऊ के आसपास होटलों को खंगाला तो एक होटल के सीसीटीवी में वही लोग दिखे। वहां पर टीम को उनका नाम व नंबर मिला। उसके बाद टीम ने कड़ी से कड़ी को जोड़ना शुरू किया। टीम ने रेलवे के रिजर्वेशन चार्ट को खंगाला तो होटल में दर्ज नाम व उम्र का मिलान हुआ। टीम तत्काल मुंबई रवाना हुई और सर्विलांस की मदद से हत्यारोपियों के पास पहुंची और उनको हिरासत में लेकर बहराइच लाई। पकड़े गए हत्यारोपियों की पहचान फखरपुर थाना क्षेत्र के ततेहरा गांव निवासी ननकू पुत्र मुबारक अली, सलमान खान पुत्र उस्मान खान व दानिश खान पुत्र नसीम खान के रूप में हुई।

हत्यारोपियों से पूछताछ के दौरान अज्ञात शवों की शिनाख्त हुई। आईजी ने बताया कि पूछताछ के दौरान अज्ञात शवों की शिनाख्त करते हुए हत्यारोपियों ने बताया कि 35 वर्षीय महिला मैरी काशी कत्रायन पुत्री काशी कत्रायन, 11 वर्षीय राजाती, सात वर्षीय जोसेफ व चार वर्षीय सौंदर्या निवासी मुमरा देवी आर्केड दिवा ईस्ट थाना मुम्ब्रा जिला थाणे राज्य महाराष्ट्र के रहने वाले थे। सभी ने महिला का मकान बेचे जाने के बाद मिले 60 लाख रुपये हड़पने व छुटकारा पाने के लिए हत्याकांड को अंजाम देने की बात स्वीकार की। तीनों हत्यारोपियों को नामजद करते हुए पुलिस ने जेल भेज दिया है।

पूरी योजना बनाकर की चारों की हत्या

ननकू पहले से ही शादी शुदा था| ननकू मैरी से पीछा छुड़ाना चाहता था। खोली बिक्री का रुपया हड़पने व मैरी से छुटकारा पाने के लिए ननकू ने अपने ही गांव के अपने साथियों सलमान खान व दानिश खान के मैरी और उसके बच्चों को मार डालने का प्लान बनाया और दिनांक 09/09/2021 को ट्रेन के माध्यम से मुंबई से चले एवं लखनऊ होते हुए दिनांक 10/09/2021 को बहराइच आए। चूंकि तीनों अभियुक्त बहराइच की भौगोलिक स्थिति से परिचित थे, इसलिए मैरी एवं उसके तीनों बच्चों की 10-09-2021 की रात्रि में 02 अलग-अलग स्थानों पर क्रमशः बहद ग्राम बसंता एवं ग्राम यादवपुरी नाला पुलिया के किनारे बहद ग्राम माधवपुर में हत्या कर उसी रात्रि वापस लखनऊ पहुंच गए एवं एक होटल में कमरा लेकर रूक गए तथा दिनाक 11.09.2021 को वहां से बस के माध्यम से वापस मुंबई महाराष्ट्र चले गए एवं 13.09.2021 को मुंबई पहुच गए।

 इस हत्याकांड का खुलासा पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती थी, क्योंकि मृतकों की पहचान नहीं हो पा रही थी। जिसके बाद घटना के अनावरण के 4 टीमें बना दीं और घटना की सूचना देने वालों के 25 हज़ार के इनाम की घोषणा कर दी।  पुलिस अधीक्षक बहराइच के कुशल निर्देशन में तकनीकी सहायता एवं लोकल इंटेलीजेंस के माध्यम से इस जघन्यतम हत्याकांड का खुलासा मात्र 07 दिवस में करने में सफलता प्राप्त की गई।



Find Us on Facebook

Trending News