बच्ची को बहला फुसला कर ले जाने के आरोप में व्यक्ति की जमकर पिटाई, पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर भेजा जेल

बच्ची को बहला फुसला कर ले जाने के आरोप में व्यक्ति की जमकर पिटाई, पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर भेजा जेल

नवादा. जिले के रजौली थाना क्षेत्र के हरदिया स्थित सेक्टर 'डी' से दो बच्चियों को शिरोडाबर पंचायत के भौर गांव का रहने वाले एक व्यक्ति ने गलत नियत से बहला-फुसलाकर फुलवरिया जलाशय के समीप अपहरण कर जंगली क्षेत्र में ले जा रहा था. इस बीच बच्चियों के चिल्लाने की आवाज सुनकर ग्रामीणों ने बच्चियों को मुक्त कराकर थाने को सूचना दी. इस दौरान स्थानीय लोगों ने युवक की जमकर पिटाई भी की है, जिसका वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.

थानाध्यक्ष का इंस्पेक्टर दरबारी चौधरी के नेतृत्व में एसआई केके वर्मा एसआई अरुण कुमार पासवान, एएसआई निरंजन सिंह एवं पुलिस बल घटनास्थल पर पहुंचकर व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है. घटना के बाद बच्ची की माता ने रजौली थाने को लिखित आवेदन दिया है. दिए गए आवेदन के आलोक में गिरफ्तार व्यक्ति भौर गांव निवासी प्रभु यादव के बेटा दिनेश यादव को जेल भेज दिया गया है.

पिड़िता की माता ने बताया है कि शुक्रवार की देर शाम एक व्यक्ति गलत नियत से मेरी 10 वर्षीय पुत्री के साथ उसकी 10 वर्षीय सहेली को मिठाई का लालच देकर अपहरण कर फुलवरिया जलाशय ले जा रहा था. इसी दौरान गांव के कुछ ग्रामीणों ने पकड़ कर व्यक्ति को पुलिस के हवाले कर दिया. घटना को लेकर पीड़िता की माता ने थानाध्यक्ष से प्राथमिकी दर्ज कर उचित कार्रवाई करने की मांग की है. थानाध्यक्ष ने बताया कि पीड़िता की माता के दिये आवेदन के अनुसार प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. साथ ही गिरफ्तार व्यक्ति को जेल भेज दिया गया है.

बताते चले कि रजौली थाना कांड संख्या 372/5 में भी पहले से वांछित अभियुक्त है. गांव के ही हरिश्चंद्र यादव के साले कर्मा खुर्द निवासी जगदीश यादव को छुरा मारकर जान मारने की कोशिश उक्त युवक के द्वारा की गयी थी. लोगों की माने तो उक्त व्यक्ति दिनेश यादव अपराधी प्रवृत्ति का है. गौरतलब हो कि फुलवरिया जलाशय को पर्यटन स्थल बनाने की मांग जोर-शोर से स्थानीय ग्रामीणों के द्वारा की जाती रही है.

साथ ही प्रशासनिक पदाधिकारियों के द्वारा पहल जारी है. बावजूद डैम से सटा गांव के असामाजिक लोग डैम पर आने जाने वाले लोगों के साथ मारपीट व महिलाओं व युवतियों के साथ अश्लील बातें व छेड़छाड़ कर परेशान करते रहते हैं. हालांकि इस तरह की घटनाओं को लेकर लोक लज्जा के डर से अधिकांश लोग चुप्पी साध लेते हैं, जिससे ऐसे लोगों की मनोबल बढ़ता जा रहा है, जिसका नतीजा है कि गलत नियत से बच्ची का अपहरण करने की कोशिश की गयी.

Find Us on Facebook

Trending News