ईडी के चंगूल में फंस गया सृजन घोटाले का मास्टरमाइंड, जांच के बाद किया गया गिरफ्तार

 ईडी के चंगूल में फंस गया सृजन घोटाले का मास्टरमाइंड, जांच के बाद किया गया गिरफ्तार

BHAGALPUR : बिहार सरकार के लिए परेशानी का कारण बन चुके सृजन घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्रवाई की है।  शहर के चर्चित व्यवसायी व घोटाले के मास्टरमाइंड पीके घोष को शनिवार को ईडी ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बताया गया प्रवर्तन निदेशालय (इडी) ने पांच अगस्त को पीके घोष को पटना पूछताछ के लिए बुलाया था. उन्हें शनिवार शाम को गिरफ्तार कर बेउर जेल भेज दिया गया. जानकारी के अनुसार पूर्व में दो बार नोटिस भेज कर घोष को इडी ने पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन वह उपस्थित नहीं हुए, सृजन घोटाला के मामले में मनी लांड्रिंग के केस में गुरुवार व शुक्रवार को पूछताछ की गयी और शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया. 

बताया जा रहा है कि मनी लांड्रिंग मामले में यह गिरफ्तारी हुई है. सृजन से जुड़ा मामला भी बताया जा रहा है. हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है. बताया जा रहा है कि इडी द्वारा पूर्व से ही गुप्त तरीके से उनकी संपत्ति की जांच की जा रही थी. जांच में भागलपुर शहर में उनके व उनके नजदीकी रिश्तेदारों के पास बड़े प्रतिष्ठान मिले हैं. 2020 में इडी ने 14 करोड़ रुपये से अधिक की सृजन की संपत्ति जब्त की थी। प्रवर्तन निदेशालय ने 2020 में सृजन महिला विकास सहयोग समिति की 14.32 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी। संस्था के खिलाफ धनशोधन मामले की जांच के तहत यह कार्रवाई की गयी थी।

आधा दर्जन शहरों में की गई थी कार्रवाई

 2017 में सरकारी कोष में कथित अनियमितता कर करोड़ों के घोटाले का मामला सामने आने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और ईडी ने सृजन के खिलाफ जांच शुरू की थी। जब्त संपत्ति में नोएडा, गाजियाबाद, पुणे, रांची, भागलपुर और पटना में 20 फ्लैट, नोएडा, गाजियाबाद और भागलपुर में 19 दुकानें, बिहार में 33 प्लॉट या घर, वॉक्सवैगन की एक कार और 4.84 करोड़ रुपये बैंक बैलेंस जब्त किया था. धनशोधन निवारण कानून के तहत 14.32 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त करने का आदेश जारी किया था. वर्ष 2003-04 से 557 करोड़ रुपये सरकारी खातों से निकाल कर अवैध रूप से सृजन के बैंक खातों में डाल दिये गये.

Find Us on Facebook

Trending News