अल्पसंख्यक राजनीति करने वाली और बीजेपी की धुर-विरोधी मायवती ने धारा-370 हटाने का किया समर्थन,वहीं भाजपा की सहयोगी नीतीश कुमार ने कर दिया विरोध

अल्पसंख्यक राजनीति करने वाली और बीजेपी की धुर-विरोधी मायवती ने धारा-370 हटाने का किया समर्थन,वहीं भाजपा की सहयोगी नीतीश कुमार ने कर दिया विरोध

N4N DESK: उत्तरप्रदेश में बीजेपी की विरोधी पार्टी बसपा ने धारा-370 का समर्थन किया वहीं दूसरी ओर पड़ोसी राज्य बिहार में भाजपा की सहयोगी पार्टी जदयू ने धारा-370 के हटाए जाने का विरोध कर दिया है।

बसपा सुप्रीमो मायवती भी यूपी में अल्पसंख्यक की राजनीति करते हैं लेकिन कश्मीर मुद्दे पर केंद्र सरकार का समर्थन कर दिया।लेकिन एनडीए में रहते हुए भी जेडीयू ने धारा-370 हटाए जाने का विरोध कर दिया ।राज्यसभा में इस प्रस्ताव पर चर्चा में भाग लेते हुए बसपा सांसद सतीशचंद्र मिश्रा ने इस प्रस्ताव का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार की प्रशंसा की।बसपा सांसद ने यह भी कहा कि कश्मीर के अलावे देश के बाकी हिस्सों में अल्पसंख्यक अधिक संख्या में रहते हैं।धारा-370 हटाए जाने की वजह पूरे देश के मुसलमानों को फायदा मिलेगा।इसलिए मोदी सरकार का यह निर्णय मुसलमानों के हित में हैं।लिहाजा बसपा इसका समर्थन करती है।

वहीं दूसरी और राज्यसभा में बीजेपी की सहयोगी जेडीयू ने प्रस्ताव का विरोध करते हुए इसे गलत करार दिया और कहा कि यह प्रस्ताव संविधान के खिलाफ है।राज्यसभा में जेडीयू ने इसके वाकआउट किया।वहीं पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि हमारी पार्टी धारा-370 हटाए जाने के निर्णय के खिलाफ हैं।बिहार के मंत्री श्याम रजक ने तो यहां तक कह दिया कि मोदी सरकार के इस निर्णय से आज संविधान की हत्या हुई है।

मुस्लिम वोटरों पर नजर

दरअसल सीएम नीतीश कुमार को लगता है कि धारा-370 हटाने का विरोध कर वे मुसलमानों के सच्चे हितैषी साबित होंगे।इसीलिए वे लगातार धारा 370,राम मंदिर समेत तमाम विवादित मुद्दों पर बीजेपी से अलग स्टैंड रखे हुए हुए हैं।जेडीयू की नजर मुस्लिम वोटरों पर है। जेडीयू इस कोशिश में है कि अभी जो अल्पसंख्यक वोटर लालू प्रसाद के पक्ष में वोटिंग करते हैं उसे तोड़कर अपने पक्ष में लाई जाए।इसी लोभ में जेडीयू लगातार इन मुद्दों का विरोध कर रही है।

Find Us on Facebook

Trending News