गरीब बच्चों के स्वास्थ्य से खिलवाड़, सैंपल टेस्ट में फेल हुआ सरकारी स्कूलों में संचालित MDM

गरीब बच्चों के स्वास्थ्य से खिलवाड़, सैंपल टेस्ट में फेल हुआ सरकारी स्कूलों में संचालित MDM

Patna: बिहार के सरकारी स्कूलों में संचालित मध्यान भोजन गुणवत्ता के मामले में फेल हो गया है। MDM की जो जांच रिपोर्ट आई है वह काफी चौंकाने वाली है। जांच में पाया गया कि बिहार के सरकारी स्कूल के बच्चों को जो MDM दिया जा रहा है उसमें प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा काफी कम है. साथ ही आयरन, विटामिन ए के साथ- साथ अन्य पोषक तत्वों की भारी कमी है। जिससे कुपोषण का खतरा बढ़ सकता है।

हर जिले के 5-5 विद्यालयों से लिया गया था नमूना

दरअसल बिहार के सभी जिलों के पांच-पांच स्कूलों से पके- पकाए भोजन का नमूना लिया गया था ।सभी नमूने की जांच के लिए नागपुर के एक लैब में भेजा गया. लैब ने जो जांच रिपोर्ट भेजी है वह काफी नेगेटिव है ।उसमे बताया गया है कि सरकारी स्कूल के बच्चों को जो भोजन दिया जा रहा है वह स्वास्थ्यवर्धक नहीं है। बल्कि कई मायनों में तो स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि मेनू अनुसार भोजन नहीं बनने, उसकी मात्रा कम होने और हरी पत्तेदार सब्जियां नहीं बनाने की वजह से बच्चों को सही डाइट और गुणवत्ता पूर्ण भोजन नहीं मिल पा रहा है ।

MDM निदेशक के पत्र से हुआ खुलासा

सैंपल टेस्टिंग में फेल होने के बाद बिहार मध्यान भोजन के निदेशक ने बिहार के सभी कार्यक्रम पदाधिकारी को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी है ।साथ ही सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को निर्देश दिया गया है कि भोजन का निर्धारित मीनू एवं मात्रा के साथ भोजन बनाएं ताकि बच्चों को पूर्ण पोषण प्राप्त हो सके। ऐसा नहीं करने वाले   प्रधानाध्यापकों पर कार्रवाई की जाएगी

Find Us on Facebook

Trending News