लालू दरबार में एंट्री पर रोक के बाद JDU ने उठाए सवाल, पूछा- बेटे के लिए खुला दरबार तो दलित महिला पर ये अत्याचार क्यों?

लालू दरबार में एंट्री पर रोक के बाद  JDU ने उठाए सवाल, पूछा- बेटे के लिए खुला दरबार तो दलित महिला पर ये अत्याचार क्यों?

पटना : बिहार विधानसभा चुनाव में राजद से टिकट पाने के लिए लालू के दरबार में हाजिरी लगाने पर अब रोक लगा दी गई है.टिकट की चाह में लालू से मिलने आने वाले लोग जब झारखंड की हेमंत सरकार के लिए भी सिरदर्द साबित होने लगे तो सरकार ने लालू के बंगले के बाहर निगरानी और सख्ती बढ़ा दी है. इसी सिलसिले में बुधवार को लालू से मिलने रांची आईं बिहार के बाराचट्टी की विधायक समता देवी को रांची जिला प्रशासन ने क्वारंटाइन कर दिया है. जिसके बाद अब जेडीयू ने झारखंड सरकार पर करारा हमला किया है.

बेटे के लिए खुला दरबार दलित पर ये अत्याचार क्यों
बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार ने झारखंड सरकार पर करारा हमला किया है. मंत्री नीरज कुमार ने कहा है कि झारखंड की सरकार लालू के इशारे पर दलितों के साथ गलत व्यवहार कर रही हैं. नीरज कुमार ने कहा कि लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव लालू से मिलने जाते हैं तो उन्हें होम क्वारेंटाइन नहीं किया जाता लेकिन एक दलित महिला विधायक लालू से मिलने जाती है तो उन्हें होम क्वारेंटाइन किया जाता है. मंत्री नीरज कुमार ने कहा है कि झारखंड सरकार और लालू की पार्टी मिलकर दोहरी नीति क्यों अपना रही है, एक तरफ तेजप्रताप यादव को होटल में ठहराया जाता है तो दूसरी और महिला विधायक को होम क्वारेंटाइन कर लिया जाता है. मंत्री नीरज कुमार ने कहा है कि राजद ने राजनीति में नवसामंत का चेहरा दिखाया है और इसका जवाब राजद को देना ही चाहिए.

गौरतलब है कि बाराचट्टी की विधायक समता देवी के साथ उनके दो बॉडीगार्ड और एक महिला सहायक को भी क्वारंटाइन किया गया है. इसके साथ ही लालू के बंगले के बाहर और आसपास मजमा लगाने वाले अन्य लोग भी सकते में आ गए हैं. वैसे एक दिन पहले लालू के बंगले के बाहर दंडाधिकारी तैनात किए जाने और सख्ती का निर्देश दिए जाने के बाद से ही वहां आवाजाही कम हो गई है.

Find Us on Facebook

Trending News