बिहार के इस जिले के अल्पसंख्यकों ने पेश की साम्प्रदायिक सोहार्द की मिशाल, अंतिम सोमवारी की वजह से कल 13 अगस्त को मनायेंगे बकरीद

बिहार के इस जिले के अल्पसंख्यकों ने पेश की साम्प्रदायिक सोहार्द की मिशाल, अंतिम सोमवारी की वजह से कल 13 अगस्त को मनायेंगे बकरीद

PATNA : आज देश भर में बकरीद मनाया जा रहा है। वहीं बिहार के मुजफ्फरपुर में अल्पसंख्यक समुदाय ने 13 अगस्त को बकरीद मनाने का फैसला लिया है। समुदाय ने यह फैसला आज सावन की अंतिम सोमवारी को देखते हुए लिया है। 

दरअसल इस बार 12 अगस्त यानि सोमवार को सावन की अंतिम सोमवारी है तो दूसरी तरफ मुसलमान भाईयों का पर्व बकरीद। यह पहला मौका है जब दोनों पर्व सावन की सोमवारी की ही पड़ा है, ऐसे में मुजफ्फरपुर के छाता बाजार स्थित अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने दरियादिली दिखाई है। यहां के 37 अल्पसंख्यक परिवारों ने सोमवार को बकरीद नहीं मनाने का एलान किया है।

अल्पसंख्यक समुदाय ने कहा है कि सावन की अंतिम सोमवारी को बाबा गरीबनाथ धाम में लोगों की भारी भीड़ जुटती है ऐसे में मंदिर में जुटने वाली भक्तों की भीड़ को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। बाबा गरीबनाथ धाम मंदिर से सटे एक मस्जिद से इस बात का एलान भी कर दिया है कि मुसलमान भाई सोमवार के बदले मंगलावर को बकरीद मनायेंगे।

आपस में लिये गये निर्णय को मस्जिद के इमाम ने घोषणा कर बता दिया है कि कोई जरूरत नहीं कि 12 अगस्त को ही बकरीद मने। कुरान के अनुसार तीन दिनों तक लोग बकरीद मना सकते हैं। 

इमाम ने कहा है कि त्योहार आपसी सौहार्द में मनना चाहिए। बाबा गरीबनाथ धाम मंदिर में सावन के सोमवार को जलाभिषेक के लिए आने वाले हिन्दू श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो इसे लेकर बकरीद 13 अगस्त मंगलवार को मनाया जायेगा। 
 
 

Find Us on Facebook

Trending News