बिना स्थल निरीक्षण किये बाढ़ क्षति रिपोर्ट भेजने पर भड़के विधायक, कहा भाजपा कोटे में कृषि विभाग है मनमानी नहीं चलने दूंगा

बिना स्थल निरीक्षण किये बाढ़ क्षति रिपोर्ट भेजने पर भड़के विधायक, कहा भाजपा कोटे में कृषि विभाग है मनमानी नहीं चलने दूंगा

MOTIHARI : किसानों के हित का कार्य करना है तो करे। बिना धरातल पर गए रिपोर्ट बनाकर खानापूर्ति बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। किसानों का कार्य नही कर मौज मस्ती करना है तो बीएओ व कृषि समन्वयक अपना अपना ट्रांसफर करवा लें। बाढ़ क्षति आकलन रिपोर्ट बिना धरातल पर गए टेबल रिपोर्टिंग कर किसानों को नुकसान पहुंचाना अच्छी बात नही है। उक्त बातें ई किसान भवन में बीएओ व कृषि समन्वयकों के साथ बाढ़ क्षति से हुए फसल नुकसान की समीक्षा बैठक करते हुए गोबिंदगंज विधायक सुनील मणि तिवारी ने कही। 

विधायक तिवारी बाढ़ व जलजमाव से किसानों के अधिक फसल नुकसान के बाद भी कम आकलन रिपोर्ट भेजने पर बीएओ व कृषि समन्वयक पर जमकर बरसे। सबसे रोचक मामला तब हुआ, जब विधायक द्वारा मूड़ा व ममरखा पंचायत के कृषि समन्वयक से पंचायत में कितने गांव है। इसकी जानकारी ली गई तो वह भी कृषि समन्वयक को पता नही था।विधायक ने कहा कि कृषि विभाग भाजपा कोटा में है ।आपलोगो की मनमानी नही चलने देंगे ।विधायक ने डीएओ को फोन कर रिपोर्ट में सुधार करने व अरेराज प्रखण्ड के सभी कृषि पदाधिकारी व कर्मी का ट्रांसफर करने की मांग किया। विधायक ने कहा कि बाढ़ व जलजमाव ने किसानों की रीढ़ को तोड़ दिया है। कृषि पदाधिकारी व कृषि समन्वयक द्वारा बिना धरातल पर गए ही फसल क्षति का रिपोर्ट बनाकर भेज दिया गया। 


विधायक ने कहा की धरातल पर जाकर किसानों के फसल क्षति का रिपोर्ट 24 घंटा में बनाकर जिला कार्यालय से सुधार कराए। अगर बाढ़ क्षति की रिपोर्ट में सुधार नहीं हुई तो सारी जवाबदेही कृषि विभाग की होगी। प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी ने बताया कि 1665.04 हेक्टेयर धान व 254.05 हेक्टेयर ईख फसल नुकसान का रिपोर्ट जिला को भेजा गया है। प्रखण्ड में 30 क्विंटल चना बीज वितरण में भारी अनियमितता का भी मुद्दा उठाया गया। मौके पर मिश्रौलिया मुखिया चन्देश्वर सिंह,ऋषि गिरी,अमित तिवारी,कृषि समन्वयक गिरीश तिवारी,कमलेश मिश्र सहित उपस्थित थे। 

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News