मॉब लिंचिंग : मामले की जांच करने सरायकेला पहुंची राज्य अल्पसंख्यक आयोग की टीम

मॉब लिंचिंग : मामले की जांच करने सरायकेला पहुंची राज्य अल्पसंख्यक आयोग की टीम

JAMSHEDPUR : खरसावां जिला के धतकीडीह में हुए मॉब लिंचिंग की घटना की जांच करने राज्य अल्पसंख्यक आयोग की तीन सदस्यीय टीम आज सरायकेला पहुंची. टीम सबसे पहले खरसावां के कदमडिहा स्थित मृतक के गांव पहुंची. टीम ने वहां  मृतक की पत्नी से मुलाकात की. इसके बाद वह बाद घटनास्थल की ओर रवाना हो गई. 

टीम ने धतकीडीह गांव पहुंचकर वहां के ग्राम प्रधान, पूर्व मुखिया और अन्य महिलाओं बयान लिया. जहाँ मृतक की पिटाई की गई थी और जिस घर में चोरी का प्रयास किया गया था. टीम ने उस स्थान का भी जायजा लिया. टीम के सदस्यों में राज्य अल्पसंख्यक आयोग के प्रदेश अध्यक्ष कमाल खान, उपाध्यक्ष गुरदेव सिंह राजा और अशोक षाड़ंगी ने पूरे घटनाक्रम का बारीकी से अध्ययन किया. इस मौके पर उन्होंने एसडीओ और एसडीपीओ को कई दिशा निर्देश दिए. वैसे इस मामले में पल- पल घटनाक्रम बदल रही है. 

हर दिन इस मामले में नए नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस ने जहां एसआईटी के गठन के बाद कार्रवाई करते हुए नामजद अभियुक्त के साथ कुल 11 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. वहीं घटनास्थल पर जांच करने पहुंची टीम के समक्ष धतकीडीह गांव की महिलाओं ने मॉब लिंचिंग के मामले को गलत बताया और कहा कि उनके परिवार के सदस्यों को बेवजह फंसाया जा रहा है. युवक तबरेज अंसारी उर्फ सोनू अपने दो साथियों के साथ चोरी की नियत से आधी रात को गांव में घुसा था. उसकी मृत्यु भीड़ की पिटाई के कारण नहीं हुई है. वह गांव से सकुशल पुलिस कस्टडी में गया था और घटना के 5 दिनों के बाद उसकी मृत्यु हुई है. वैसे ग्रामीणों की बात का समर्थन भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष उदय सिंह देव ने भी करते हुए पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग जिला प्रशासन और एसआईटी से किया है. 

जिलाध्यक्ष ने कहा कि इस मामले में निर्दोष पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए. हालांकि इस संबंध में आयोग के अध्यक्ष कमाल खान ने बताया कि दोनों पक्षों की बात आयोग के समक्ष आ चुकी है अब वे इस मामले पर जिला प्रशासन से बात करने के बाद अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेंगे. खान ने बताया कि वह निश्चित तौर पर जांच रिपोर्ट के साथ मृतक के आश्रितों को मुआवजा और नौकरी दिए जाने की सिफारिश करेंगे. ताकि उनका जीवन बसर चल सके. फिलहाल दोनों ही गांव में भारी संख्या में प्रशासन की ओर से सुरक्षाबलों की तैनाती कर दी गई है किसी भी आशंका को देखते हुए हर पल अलर्ट रहने का निर्देश जारी किया गया है. 

जमशेदपुर से संतोष की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News