मोदी ने नापाक इरादों के लिए देश के मां बहनों को सड़क पर ला दिया : पप्पू यादव

मोदी ने नापाक इरादों के लिए देश के मां बहनों को सड़क पर ला दिया : पप्पू यादव

MADHEPURA : मधेपुरा मस्जिद चौक पर लगभग एक माह से एनपीआर, एनआरसी और सीएए के खिलाफ जारी अनिश्चितकालीन धरना को  समर्थन देने मधेपुरा के पूर्व सांसद सह जाप सुप्रीमो पप्पू यादव पहुंचे. उन्होंने धरना को अपना समर्थन देते हुए इसे देश बचाने की लड़ाई बताया. उन्होंने कहा की संघी सरकार की नफरत को प्यार से मिटाने की यह भागीरथी प्रयास सलाम करने योग्य है. एनआरसी, एनपीआर, सीएए पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि देश में नागरिकता का प्रमाण मांगना और बाहरी को नागरिकता देने की बात भारत में किसी कीमत पर स्वीकार नहीं. 

उन्होंने कहा की दो बार आधार कार्ड के सहारे सरकार में आई केंद्र सरकार का आधार को महत्व नहीं देना उसके दोहरी चाल को बताता है. प्रधानमंत्री पर कटाक्ष करते पूर्व सांसद ने कहा कि उन्होंने अपनी नापाक इरादों की पूर्ति के लिए देश की मां बहनों को सड़क पर ला खड़ा किया है. शाहीन बाग पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि शाहीन बाग की औरतों सहित जामिया व जेएनयू के बच्चों के हांथों को मजबूत करने की जरूरत है. जिन्होंने देश को टूटने से बचाने के लिए आगे आने का काम किया है. हिन्दू - मुस्लिम की राजनीति पर सवाल खड़े करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में उन मुसलमानों से उनकी राष्ट्रीयता व देशप्रेम का प्रमाण नहीं मांगा जा सकता. जिन्होंने मुसलमानों के लिए अलग मुल्क पाकिस्तान जाने के बजाय हिन्दुस्तान में रहना स्वीकार किया. इनकी राष्ट्रीयता का प्रमाण इंडिया गेट है. 

भगवा झंडे की हो रही राजनीति पर प्रहार करते हुए कहा कि यह रंग किसी कि बपौती नहीं, बल्कि भारत के सूर्योदय और सूर्यास्त की बेला में भारत का श्रृंगार है. अपने संबोधन में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि वे बिहार के छुपे दुश्मन हैं. जिन्होंने गोडसे के भक्तों का साथ दिया. अपने संबोधन में जाप सुप्रीमों पप्पू यादव ने खुले तौर पर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मुसलमान किसी मामले में गुनहगार हो तो ये पागल हो जाते हैं. लेकिन जब हिन्दू हो तो उसे बचाने लगते हैं. 

उपस्थित लोगों से उन्होंने अपील किया की किसी भी कीमत पर वे कोई भी कागज नहीं दिखाए. उनकी लड़ाई में उनका बेटा-भाई पप्पू आखिरी सांस तक उनके साथ है. अपने संबोधन के अंत में आजादी - आजादी के नारों के सहारे भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा. मौके पर जाप के सभी पदाधिकारी सहित हजारों की तादाद में औरतों और पुरुषों की भीड़ रही. धरना के दूसरे सत्र में देर रात को संबोधित करते हुए सीनेट, सिंडीकेट सदस्य प्रो जवाहर पासवान, बीएनएमयू बीएड के  हेड प्रो ललन साहनी, एआईएसएफ के राष्ट्रीय परिषद सदस्य हर्षवर्धन सिंह राठौर, छात्र नेता मुन्ना कुमार ने कहा आखिरी दम तक यह लड़ाई जारी रहेगी. जिसका एक सूत्री मांग है सरकार को एनआरसी, एनपीआर, सीएए जैसे फैसले को अविलंब वापस लेना होगा. 

मधेपुरा से मेराज आलम की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News