मोदी ने मारा ट्रंप और इमरान के मुंह पर करारा तमाचा, जम्मू-कश्मीर पर फैसले से सकते में ट्रम्प

मोदी ने मारा ट्रंप और इमरान के मुंह पर करारा तमाचा, जम्मू-कश्मीर पर फैसले से सकते में ट्रम्प

NEWS4NATION DESK : जम्मू-कश्मीर पर मोदी सरकार द्वारा लिए गए ऐतिहासिक फैसले से पाक पीएम इमरान और दुनिया के सबसे बड़ी ताकत माने जाने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप भी सकते में है। 

सैकड़ों बार झूठ बोल चुके ट्रंप जो पूरी दुनिया में बड़बोलापन के लिए जाने जाते हैं, उन्होंने कुछ ही दिन पहले ओवर एक्टिंग करते हुए पाकिस्तान के हुक्मरान  इमरान खान से बातचीत करते हुए कहा था  कि अगर मोदी चाहेंगे  तो मैं कश्मीर समस्या पर मध्यस्थता करने के लिए तैयार हूं।

इतना ही नहीं  भारत के  मुखालफत के बाद भी 10 दिनों बाद  ट्रंप ने अपनी बात दोहराते हुए कहीं  कि मोदी मेरे अच्छे मित्र हैं  अगर वह चाहेंगे  तो मैं मध्यस्थता करने को तैयार हूं।  ट्रंप के द्वारा कही गई बातों को  इमरान ने तुरुप के पत्ते की तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया  और एक बार फिर से  कश्मीर को   अंतरराष्ट्रीय कर्म करने में जुट गए।   

अंतरराष्ट्रीय मीडिया की माने तो अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप  हर कीमत पर   अफगानिस्तान से अपनी सेना  को वापस करना चाहते हैं। जाहिर सी बात है  कि अमेरिका को  सेना वापसी में  पाकिस्तान का साथ चाहिए। दूसरी तरफ पाकिस्तान भी  कश्मीर के बहाने  अपनी रोटी सेकने को उतावला है। 

कुछ दिन पहले हुई मुलाकात के दौरान   पाकिस्तान के हुक्मरान इमरान खान ने   जब ट्रंप से  कश्मीर का मुद्दा छेड़ा तो तपाक से  ट्रंप ने  कहा  कि अगर  मोदी चाहेंगे  तो हम मध्यस्था को तैयार हैं। इतना ही नहीं  उन्होंने यहां तक कह दिया  कि मोदी ने   मुझसे  रिक्वेस्ट किया है कि आप  कश्मीर के मसले पर मध्यस्था करें।

ट्रंप का यह बयान आते ही भारत की ओर से फौरन इसका खंडन किया गया। भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने सदन में कहा कि मोदी ने कभी ट्रंप से ऐसी कोई बात नहीं की। कश्मीर का मसला द्विपक्षीय है और यह भारत-पाकिस्तान आपस में बैठकर ही हल कर सकता है। कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है।

गौरतलब है कि लगातार झूठ बोलने में माहिर और अनावश्यक बातों को अचानक तूल देने की वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति तमाम प्रमुख देशों के प्रधान को अपने बड़बोलापन की वजह से नाराज कर चुके हैं।

रूस ब्रिटेन चाइना और कई इस्लामिक देश ट्रंप के इस रवैया से नाराज है। ट्रंप और इमरान की जुगलबंदी को को देखते हुए भारत ने कश्मीर के मसले पर दो टूक फैसला लिया और कश्मीर से धारा 370 के खंड 1 को छोड़कर बाकी खंडों का उन्मूलन कर दिया।

यानी न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी

Find Us on Facebook

Trending News