निजी बैंकों में निवेश किया पैसा कॉरपोरेट घरानों को जाता है, सार्वजनिक बैंक में गया पैसा देश के विकास में, केनरा बैंक ऑफिसर्स यूनियन महासचिव ने सीधा समझाया कौन बेहतर!

निजी बैंकों में निवेश किया पैसा कॉरपोरेट घरानों को जाता है, सार्वजनिक बैंक में गया पैसा देश के विकास में,  केनरा बैंक ऑफिसर्स यूनियन महासचिव ने सीधा समझाया कौन बेहतर!

PATNA : मजबूत बुनियादी सिद्धांतों के साथ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वे भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। पीएसबी को स्वायत्तता के साथ सशक्त बनाकर, पीएसबी अद्भूत काम कर सकते हैं और भारतीय आर्थिक प्रोफाइल में सबसे सक्षम  संगठन बन सकते हैं। भारत के तथाकथित अर्थशास्त्री आर्थिक प्रदर्शन के लिए निजीकरण को रामबाण के रूप में प्रस्तावित करते हैं। उन्हें कुछ सार्वजनिक बैंकों के हाल के परिणाम को देखना चाहिए कि कैसे पीएसबी बेहतर काम कर रहे हैं। यह कहना है केनरा बैंक अधिकारी संगठन के महासचिव के. रवि कुमार का। वह संगठन की तरफ से पटना में आयोजित एक कार्यकम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे।

के. रवि कुमार ने कहा कि बैकों के निजीकरण करने का कड़ा विरोध करते हैं। उन्होंने सेंट्रल बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूको बैंक का उदाहरण देते हुए कहा कि यह पीसीए के तहत लगाए गए प्रतिबंधों के बावजूद असाधारण प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि यूको बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक पहले ही पीसीए के दायरे से बाहर आ चुकी है, वहीं अब सेंट्रल बैंक भी अब इससे बाहर निकल गई है।

उन्होंने कहा कि निजीकरण से बैंकों का पैसा कुछ कॉरपोरेट घरानों तक जाएगा, जबकि हमारे बैंकों में लगा पैसा देश के आम आदमी के विकास में निवेश किया जाएगा। ऐसे में बैकों को निजीकरण से दूर रखने की जरुरत है।

50 हजार से ज्यादा सदस्य

के. रवि कुमार ने बताया कि आज केनरा बैंक में काम करनेवाले लोगों की संख्या 50 हजार से ज्यादा हो गई है। सिर्फ बिहार में बैंक के 300 से ज्यादा ब्रांच है। जिनका कुल कारोबार 39000 करोड़ रुपए है। साथ ही कुछ और शहरों में बैंक की नई शाखाएं खोलने की तैयारी है। यूनियन के महासचिव ने बताया कि हमारा बैंक न केवल इस राज्य में पूरे देश में अपनी उपस्थिति का विस्तार करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। 

कर्मियों के तनाव को कम करने पर जोर

आज तमाम उद्योगों में कर्मियों में काम को लेकर तनाव की स्थिति है। बैंककर्मी भी इससे अलग नहीं हैं। यह वह चुनौती है, जिसे सही तरीके से प्रबंधन की जरुरत है। इसलिए हमलोगों ने केनरा बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के तहत विभिन्न प्रकार की गतिविधियों पर जोर दे रहे हैं। जिनमें खेल, सोशल मीडिया पर टैलेंट हंट, संगीत प्रतियोगिता का आयोजन करते हैं। इसके अलावा देश में कई जगहों पर ब्लड डोनेशन कैंप भी लगाई गई है।

Find Us on Facebook

Trending News