कैसे रूकेगा भ्रष्टाचार? जिस अफसर पर आय से 77 लाख रू अधिक संपत्ति अर्जित करने का किया था केस, कोर्ट में साक्ष्य देने में विफल रहा निगरानी ब्यूरो

कैसे रूकेगा भ्रष्टाचार? जिस अफसर पर आय से 77 लाख रू अधिक संपत्ति अर्जित करने का किया था केस, कोर्ट में साक्ष्य देने में विफल रहा निगरानी ब्यूरो

PATNA: बिहार सरकार ने भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप में निलंबित बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी देवेंद्र कुमार दर्द का निलंबन खत्म कर दियाहै । निगरानी विभाग के पत्र के बाद सरकार ने 2017 में निलंबित किया था । जिस निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी पर आय से 77 लाख रु अर्जित करने का केस किया था उसी निगरानी ब्यूरो को प्राथमिक अभियुक्त देवेंद्र कुमार दर्द और उनकी पत्नी छाया दर्द के विरुद्ध ठोस साक्ष्य नहीं मिला।

साक्ष्य जुटाने में विफल रहा निगरानी ब्यूरो

 कोर्ट में दिए अंतिम प्रतिवेदन में निगरानी ब्यूरो ने साक्ष्य की कमी बता अंतिम प्रतिवेदन समर्पित किया है। निगरानी विभाग ने भागलपुर के तत्कालीन जिला आपूर्ति पदाधिकारी देवेंद्र कुमार दर्द के विरुद्ध 22 नवंबर 2017 को 7785546 रूपया के प्रत्यानुपतिक धनार्जन के आरोप में निगरानी थाना में 31 जनवरी 2017 को भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम 1988 के तहत केस दर्ज किया था।

जनवरी 2017 में हुए थे निलंबित

 केस दर्ज किए जाने के बाद सामान्य प्रशासन विभाग ने बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी को 26 दिसंबर 2017 को निलंबित किया था। निलंबन अवधि में दर्द का मुख्यालय आयुक्त कार्यालय पटना प्रमंडल निर्धारित किया गया था । लेकिन निगरानी ब्यूरो ने विशेष निगरानी कोर्ट में साक्ष्य की कमी का अंतिम आरोप पत्र समर्पित किया। यानि जांच में निगरानी को कोई आधार नहीं मिला।इस आधार पर अधिकारी को क्लीन चिट मिल गयी।

सरकार ने किया निलंबन मुक्त

निगरानी विशेष अदालत ने 24 फरवरी 2021 के आदेश में उन्हें निलंबन मुक्त किए जाने का आदेश दिया। कोर्ट के आदेश पर आज सामान्य प्रशासन विभाग ने निलंबन वापस लेने का आदेश जारी कर दिया है। हालांकि अभी विभागीय कार्यवाही जारी रहेगी।

Find Us on Facebook

Trending News