मोतिहारी DEO 'भ्रष्टाचार' में घिरे ! डीपीओ रहते खुद रहे MDM प्रभारी, नियम विरूद्ध ठेकेदार से उठाव-वितरण का किया अनुबंध...RDDE ने किया खुलासा

मोतिहारी DEO 'भ्रष्टाचार' में घिरे ! डीपीओ रहते खुद रहे MDM प्रभारी, नियम विरूद्ध ठेकेदार से उठाव-वितरण का किया अनुबंध...RDDE ने किया खुलासा

MOTIHARI: मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। शिक्षकों में जबरन किताब बेंचने के खुलासे के बाद अब एमडीएम में भी साहब घिर गए हैं. डीईओ संजय कुमार ने जिले में डीपीओ होने के बाद भी मध्याहन भोजन योजना का प्रभार अपने पास रखा । इस दौरान जिले में एमडीएम घोटाला कर लाखों-करोड़ों की कमाई की गई। मीडिया में खबर आने के बाद पताही प्रखंड में चावल गबन के संबंध में केस दर्ज हुआ, लेकिन अन्य प्रखंडों में हुई गड़बड़ी को दबा लिया गया। पूरे प्रकरण में मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी कटघरे में हैं। घोटाले में शक की सूई डीईओ संजय कुमार की तरफ है। हालांकि मामले के खुलासे के बाद डीएम ने संजय कुमार से एमडीएम का प्रभार छीन लिया था। केवल प्रभार छीने जाने से डीईओ संजय कुमार आरोप मुक्त नहीं हो पायेंगे। अब आरडीडीई मुजफ्फरपुर ने संजय कुमार की पूरी पोल खोल दी है। उप निदेशक ने मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी को मध्याहन भोजन योजना में मिलीभगत का खुलासा किया है। साथ ही कार्रवाई को लेकर निदेशक प्रशासन को पत्र लिखा है। 

किताब के बाद एमडीएम घोटाले में भी घिरे डीईओ 

मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी संजय कुमार के क्षेत्रीय उच्चाधिकारी आरडीडीई मुजफ्फरपुर ने 9 जून को इनकी पूरी कुंडली मुख्यालय भेज दिया है। क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक जीवेंद्र झा ने विभाग को लिखे पत्र में कहा है कि डीईओ ने जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, कार्यक्रम पदाधिकारी के पदस्थापित रहने के बाद भी पीएम पोषण योजना यानी मध्याह्न भोजन योजना का प्रभार स्वयं रखा. साथ ही नियम विरुद्ध जाकर 1 जनवरी 2022 को संवेदक को चावल उठाव व वितरण के लिए अनुबंध पर रखा गया।जो नियम विरूद्ध प्रतीत हो रहा। आरोपों से संबंधित प्रमाण आरडीडीई ने निदेशक प्रशासन के पास भेज दिया है।



मोतिहारी डीईओ दफ्तर में अराजकता का माहौल 

मोतिहारी के शिक्षा विभाग में अराजकता का माहौल है। जिले के शिक्षा अधिकारी संजय कुमार क्लर्क ब्रदर्स के आतंक से परेशान हैं। डीईओ ने बचाव में लिपिक ब्रदर्स पर कार्रवाई को लेकर विभाग से सिफारिश की है। वहीं जिला शिक्षा पदाधिकारी पर भी गंभीर आरोप हैं। आरडीडीई ने मोतिहारी डीईओ के कारनामों की पोल खोली है। खुलासा हुआ है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी संजय कुमार स्वरचित किताब का कारोबार कर मालामाल हो रहे हैं। वे शिक्षकों से जबरन किताब खरीदने को कह रहे। इसके लिए कुछ शिक्षकों व रिटायर्ड कर्मियों की सेवा ली जा रही. यानी मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी ड्यूटी की बजाय किताब का कारोबार कर जमकर माल बटोर रहे।

मोतिहारी डीईओ किताब बेंच कर रहे कमाई 

मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी ने नया धंधा शुरू किया है। जिले में वे किताब का धंधा कर रहे। डीईओ संजय कुमार ने किताब की रचना की है। नाम है -पहल...छोटे प्रयास बड़े बदलाव। इसके लेखक जिले के डीईओ संजय कुमार हैं।  जानकारी के अनुसार डीईओं ने सभी स्कूल के शिक्षकों से किताब खऱीदने को कह रहे हैं। किताब खरीदने के लिए दबाव बनाया जा रहा। सैकड़ों शिक्षकों ने किताब की खरीद कर भी ली है। एक किताब के लिए 500 रू वसूल किये जा रहे हैं। जिले में 2500 से अधिक सरकारी स्कूल हैं। सभी स्कूलों पर दबाव है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी की किताब को खरीदें। नहीं खरीदने वाले स्कूल के प्रधान शिक्षकों पर कार्रवाई होगी। यानी जिले के डीईओ संजय कुमार किताब बेंचकर लाखों की कमाई कर चुके हैं। इस मामले को डीईओ के बॉस आऱडीडीई ने धऱ लिया है। 

आरडीडीई ने डीईओ के खिलाफ विभाग को भेजी रिपोर्ट 

तिरहुत प्रमंडल के क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक जितेंद्र झा ने शिक्षा विभाग के निदेशक प्रशासन सह अपर सचिव को पत्र लिखा है. मुजफ्फरपुर के आरडीडीई ने मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी संजय कुमार के विरुद्ध आरोप के संबंध में अनुशासनिक कार्रवाई करने की सिफारिश की है. मुजफ्फरपुर के आरडीडीई ने पाया है कि मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी ने नियम के विरुद्ध काम किया है. वे विभागीय कार्य में रुचि नहीं रखकर किताब बिकवा रहे। वे बिना वरीय अधिकारी के आदेश के खुद की रचित पुस्तक जिसमें अपनी पारिवारिक पृष्ठभूमि को वर्णित किया है, उस किताब को जिले के कुछ शिक्षकों एवं सेवानिवृत्त कर्मी के सहयोग से जबरन भेजा जा रहा है. डीईओ द्वारा निजी स्वार्थ की पूर्ति के लिए यह कार्य किया जा रहा है। हालांकि डीईओ संजय कुमार ने अपने वरीय अधिकारी के तमाम आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि यह सब मनगढ़ंत आरोप है। किसी भी मामले में उनकी कोई भूमिका नहीं है। 

लिपिक मिश्रा ब्रदर्स पर कब होगा एक्शन?  

इधऱ, किताब की बिक्री करवा कर माल कमाने वाले मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी संजय कुमार इतने परेशान हो गये हैं कि प्रधान लिपिक सत्येन्द्र मिश्र को जबरिया रिटायरमेंट को लेकर शिक्षा विभाग के निदेशक के साथ-साथ विभाग के अपर मुख्य सचिव को पत्र लिख दिया। मोतिहारी के जिला शिक्षा पदाधिकारी ने अपने दफ्तर के प्रधान लिपिक से त्रस्त होकर शिक्षा विभाग से गुहार लगाई है.न्यूज4नेशन ने ''मोतिहारी जिला शिक्षा पदाधिकारी ने सरकार से लगाई गुहार- प्रधान लिपिक सत्येंद्र मिश्र को जबरन करें रिटायर" इस खबर को शनिवार को प्रकाशित किया था। इसके बाद खलबली मच गई। मोतिहारी के जिलाधिकारी ने खबर के बाद तीन सदस्यीय जांच कमिटि का गठन किया है।

Find Us on Facebook

Trending News