बिहार में 7वीं चरण शिक्षक नियोजन की मांग को लेकर अभ्यर्थियों का आंदोलन, अपने-अपने घर में भूखे पेट धरना पर बैठे

बिहार में 7वीं चरण शिक्षक नियोजन की मांग को लेकर अभ्यर्थियों का आंदोलन, अपने-अपने घर में भूखे पेट धरना पर बैठे

PATNA: बिहार में 7वीं चरण शिक्षक नियोजन समिति के आह्वान पर अभ्यर्थियों ने आंदोलन की शुरूआत कर दी है। हजारों शिक्षक अभ्यर्थी अपने- अपने घरों में अहिंसा के साथ भूखे पेट धरना पर बैठ गये । अभ्यर्थी हाथों में तख्ती लिए प्राथमिक शिक्षक बहाली से संबंधित नारा लिखकर प्रदर्शन किया.शिक्षक अभ्यर्थियों का कहना है कि आज के दिन को पुरी दुनिया अहिंसा दिवस के रूप मे मना रही है, इसलिए हम बेरोजगार लोग राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को इसी माध्यम से भूखे रहकर सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं । 

शिक्षक नियोजन की मांग को लेकर आंदोलन

सातवीं चरण शिक्षक नियोजन समिति के अध्यक्ष ऋषिकेश राज ने बताया कि राज्य में लाखों प्राथमिक शिक्षकों का पद रिक्त रहने के बावजूद भी विगत तीन वर्षों से शिक्षक बनने की तमाम अहर्ता होने के बाद भी हमलोग बेरोजगार बैठे हैं । बिहार सरकार एवं शिक्षा विभाग की तरफ से बार-बार सिर्फ आश्वासन देकर अभ्यर्थियों को बरगलाया जा रहा है । छठे चरण में 94000 सीटों की काउंसिलिंग भी खत्म हो चुकी है, जिसमे आधे से अधिक सीटें खाली रह गयी है । इसलिए, अब हमलोगों का धैर्य जबाब दे रहा है । 

सातवीं चरण शिक्षक नियोजन समिति के अध्यक्ष ने कहा कि यदि जल्द से जल्द प्राथमिक शिक्षकों की बहाली हेतु सातवीं चरण की विज्ञप्ति नहीं जारी की जाती है तो हमलोग पटना की धरती पर आत्मदाह करने को मजबूर होंगे। इससे पूर्व भी अभ्यर्थी तरह-तरह से आंदोलन चलाकर सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर चुके हैं । अब हमलोगों को आश्वासन के जगह पर रोजगार चाहिए । इसलिए अब सरकार से आर-पार के लिए बहुत जल्द अभ्यर्थी पटना की धरती पर जमा होने पर मजबूर होंगे ।


Find Us on Facebook

Trending News