बलात्कार आरोपों में घिरे सांसद प्रिंस राज की बढ़ सकती है मुश्किल, आरोप पत्र तैयार, चिराग पासवान भी हैं आरोपी

बलात्कार आरोपों में घिरे सांसद प्रिंस राज की बढ़ सकती है मुश्किल, आरोप पत्र तैयार, चिराग पासवान भी हैं आरोपी

पटना. बलात्कार आरोपों से घिरे सांसद प्रिंसराज पासवान की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. प्रिंसराज और चिराग पासवान (कथित आरोपी) पर बलात्कार मामले में सीबीआई कोर्ट राउज़ एवेन्यू में शनिवार को आरोप पत्र प्रस्तुत किया जाएगा. समस्तीपुर से सांसद प्रिंसराज पासवान पर उनकी ही पार्टी की एक महिला कार्यकर्ता ने बलात्कार का आरोप लगाया था. यह मामला उस समय का है जब लोजपा एकजुट थी. उस समय पीडिता के आरोप पर प्रिंस के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 376 (2)(K), 506, 201, 120B के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. 

यह मामला वर्ष 2020 से जुड़ा है. पीड़िता का कहना था कि वह 2019 में पार्टी में शामिल हुई थी. प्रिंस राज पहली बार पीड़िता से जनवरी 2020 में मिले थे. पुलिस के अनुसार, दोनों की मुलाकात वेस्टर्न कोर्ट, जनपथ दिल्ली में हुई थी, जहां प्रिंस ने कथित तौर पर पीड़िता को नशीला पदार्थ देकर उसका यौन उत्पीड़न किया और इस कृत्य का वीडियो बना लिया और उसे धमकी दी. इसके बाद वह नियमित रूप से पीड़िता के घर जाने लगे. एफआईआर में कहा गया है कि पीड़िता के जबरन इस रिश्ते से बाहर निकलने के प्रयासों को भांपते हुए प्रिंस ने उसे धमकी दी.

इसमें कहा गया कि चिराग पासवान को भी मामले की जानकारी थी. पीड़िता के अनुसार, उसने चिराग पासवान से भी मुलाकात की और उन्हें मामले की जानकारी दी. पासवान ने उन्हें पूरे मामले को सुलझाने का आश्वासन भी दिया और उन्हें मामला दर्ज नहीं करने के लिए राजी किया. पीड़िता ने एफआईआर में आरोप लगाया कि आगे कोई कार्रवाई नहीं की गई.

 इस मामले में मई 2021 में पुलिस ने मामला दर्ज किया. अब लोजपा भी दो फाड़ हो चुकी है. चिराग पासवान ने लोजपा रामविलास नाम से अलग पार्टी बना ली है. वहीं उनके चचेरे भाई अपने चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस के गुट में हैं. हालांकि बलात्कार से जुड़े इस मामले ने अब दोनों चचेरे भाइयों की मुश्किलें बढ़ा दी है. 


Find Us on Facebook

Trending News