मुजफ्फरपुर पुलिस ने मोस्ट वांटेड अपराधी किसलय को किया गिरफ्तार, पिस्टल व गोली समेत कई सामान बरामद

मुजफ्फरपुर पुलिस ने मोस्ट वांटेड अपराधी किसलय को किया गिरफ्तार, पिस्टल व गोली समेत कई सामान बरामद

मुजफ्फरपुर. जिले में अपराधियों की लगातार गिरफ्तारी हो रही है। कल मुजफ्फरपुर के एसएसपी के द्वारा मंटू शर्मा की गिरफ्तारी को लेक प्रेस कॉन्फ्रेंस की गयी थी। वहीं आज कई वर्षों से फरार चल रहे मुथूट फाइनेंस के 33 किलो सोना लूट में शामिल किसलय कुमार को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही उसके सहयोगी को भी गिरफ्तार किया गया है। इस दौरान उसके कब्जे में पिस्टल और गोली बरामद की गयी है।

मिली जानकारी के अनुसार किसलय कुमार एक मिडिल क्लास फैमिली से आता है।पिता की मौत के बाद वह गलत रास्ते पर चला गया। मुजफ्फरपुर पुलिस द्वारा कुख्यात किसलय को मुजफ्फरपुर के बैरिया बस स्टैंड से गिरफ्तार किया गया है। किसलय चम्पारण पश्चिम बंगाल और नेपाल तक अपने गिरोह को स्थापित कर चूका है। एसएसपी जयंत कांत को मिली गुप्त सूचना के बाद नगर डीएसपी के नेतृत्व में विशेष पुलिस टीम ने घेराबंदी कर किसलय को गिरफ्तार किया। किसलय के साथ उसका सहयोगी को भी गिरफ्तार किया गया है। गिरफ़्तारी के वक़्त किसलय के पास से एक देशी कार्बाइन और पिस्टल के साथ गोली और कई सामान बरामद किए गए हैं।

पुलिस सूत्रों की माने तो जून माह में किसलय मुजफ्फरपुर पहुंचा था और बैरिया बस स्टैंड पर कब्ज़ा के लिए एक वारदात को अंजाम देने के फ़िराक में था। इसी दौरान एसएसपी जयंत कांत को गुप्त सूचना प्राप्त हुआ था कि किसलय बैरिया से जीरो माइल की तरफ देखा गया है। उसके बाद जिला की डीआईयू और एसआईटी टीम किसलय की तस्वीर के साथ उसकी तलाश में जुट गयी थी। पुलिस की चहलकदमी का अंदाजा किसलय को लग गया और फिर वह मुजफ्फरपुर से चम्पारण के रास्ते नेपाल भाग गया। नेपाल की सूचना न सिर्फ मुजफ्फरपुर पुलिस के पास थी, बल्कि बिहार के पुलिस विभाग के अन्य टीम के पास भी थी। एक बार फिर बड़ी योजना के साथ किसलय मुजफ्फरपुर पहुंचा था, लेकिन इस बार पुलिस के जाल में फंस गया।

पटना एसटीएफ के निशाने पर भी था

पुलिस सूत्रों की मानें तो तमिलनाडु, बंगाल, दिल्ली एनसीआर सहित बिहार के कई जिलों में पुलिस टीम अपने नेटवर्क को कायम कर किसलय गिरोह पर नजर रख रही थी। खासकर नेपाल में जहां-जहं रुकने का ठिकाना व उन ठिकानों पर पुलिस की नजर थी। मुजफ्फरपुर में इस गिरोह को संरक्षण देने वाले सफ़ेद कॉलर और गिरोह के सदस्य पर पैनी नजर पुलिस की बनी हुई थी। बैरिया इलाके में ही नहीं पुराना मोतिहारी रोड के साथ जीरो माइल तक पुलिस को सिविल में देखा जा रहा था। इसी नेटवर्क के जाल में किसलय फंसा। 

एसएसपी जयंत कांत के द्वारा पूछताछ में कई खुलासा किशलय द्वारा किया गया। मुजफ्फरपुर जिला सहित मोतिहारी और नेपाल में जिन घटनाओं को अंजाम किसलय द्वारा दिया गया था। पुलिस अन्य अपराधियों की गिरफ़्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही है।

Find Us on Facebook

Trending News