नवादा में बंधक बनाकर महीनों किया नाबालिग का यौन शोषण, महिला ने किया था अगवा

नवादा में बंधक बनाकर महीनों किया नाबालिग का यौन शोषण, महिला ने किया था अगवा

नवादा : नवादा में पांच महीने तक बाधक बनाकर नाबालिग के साथ यौन शोषण करने का मामला सामने आया है. दुष्कर्मी के चंगुल से किसी तरह युवती निकली तो चार दिनों तक थाने में भटकने के बाद भी प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई. अंतत: सामाजिक संगठनों और गण्यमान्य के हस्तक्षेप के बाद सोमवार को प्राथमिकी दर्ज की गई है. 

क्या था मामला

नवादा के रजौली थाना क्षेत्र से तकरीबन चार माह पहले एक किशोरी शौच के लिए घर से बाहर निकली पर घर वापस लौट कर नहीं आई. किशोरी ने बताया कि गांव की ही बुची कुमारी ने उसे अपने कब्जे में ले लिया और एक दिन घर में बंधक बनाए रखा. अगले दिन उसे बोलेरो से ले जाकर नालंदा के प्राण बीघा गांव के मिथुनवर्ती के हवाले कर दिया। मिथुन किशोरी से दुगनी उम्र से भी ज्यादा का है. 

उसके बाद मिथुन के अत्याचार का सिलसिला शुरू हो गया. वह हर दिन दुष्कर्म करता, किशोरी भागना चाहती तो जान मारने की धमकी देता। पर किसी तरह  17 जनवरी को मौका पाकर किशोरी भाग निकली और रजौली थाना पहुंचकर उसने आपबीती सुनाई। रजौली थाना की पुलिस ने उसे नवादा महिला थाना जाने को कहा. बहन के साथ किशोरी महिला थाना पहुंची तो वहां से रजौली थाना भेज दिया गया. सोमवार को वह 'तटवासी समाज' नामक सामाजिक संस्था के पास पहुंची. संस्था के प्रतिनिधियों ने रजौली के एसडीओ चंद्रशेखर आजाद को मामले से अवगत कराया और पीड़िता को लिए अनुमंडल कार्यालय पहुंच गए. 

एसडीओ के निर्देश पर यशवंत कुमार समैय्यार ने पीड़िता का बयान दर्ज किया और शपथ पत्र भरा. उसके बाद एसडीपीओ संजय कुमार के निर्देश पर 21 जनवरी को रजौली थाने के प्राथमिकी दर्ज हु. इस बीच चार दिन गुजर गए.

पीड़िता काफी गरीब परिवार की है. उसके सिर पर माता-पिता का भी साया नहीं है. उसकी देखभाल करने वाला बड़ा भाई पहले तो खोजबीन किया और अंत में थक-हार कर खामोश बैठ गया. एसडीओ का कहना है कि कस्तूरबा विद्यालय में किशोरी की पढ़ाई की व्यवस्था की जा रही है. उसकी दुर्गति करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. 

Find Us on Facebook

Trending News