NDA के घटक दलों की मौजूदगी में होनी चाहिए थी सीट की घोषणा, लोजपा को 7 सीट से कम मंजूर नहीं

NDA के घटक दलों की मौजूदगी में होनी चाहिए थी सीट की घोषणा, लोजपा को 7 सीट से कम मंजूर नहीं

PATNA :  बिहार लोजपा के नेता इस बात से नाखुश हैं कि एनडीए की सीटों की घोषणा के समय केवल दो नेताओं ने प्रेस कांफ्रेंस क्यों किया ? लोजपा ने भाजपा को खरी-खरी सुनायी है कि उसने गठबंधन धर्म का पालन नहीं किया । लोजपा ने अमित शाह और नीतीश कुमार की दिल्ली में हुई प्रेस वार्ता पर सवाल उठाया है। लोजपा को सात सीटों से कम मंजूर नहीं है।

सभी घटक दलों की मौजूदगी में होनी चाहिए थी घोषणा

लोजपा ने अब भाजपा पर सीधे-सीधे हमला बोला है। लोजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने सोमवार को कहा कि सीटों की घोषणा एनडीए के सभी घटक दलों की मौजूदगी में होनी चाहिए थी। केवल दो नेताओं की प्रेस वार्ता से गलत संदेश गया है। लोजपा का अगर चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किया जाता है तो उसके साथ सीटें भी साझा करनी चाहिए थी। हमें सात सीटों से कम मंजूर नहीं। पिछले चुनाव में लोजपा सभी सात सीटों पर जीत जाती। छह पर तो जीत मिली थी लेकिन सातवीं सीट पर प्रशासन ने हरा दिया। इस लिए हमें सात सीटें चाहिए।

पांच उंगलियों में कोई एक अकेले काम नहीं करती

पशुपति कुमार पारस ने गठबंधन में घटक दलों के महत्व को बताने के लिए पांच उंगलियों का उदाहरण दिया है। उन्होंने कहा है कि पांच में कोई एक उंगली अकेले काम नहीं कर सकती। पांचों उंगलिय़ां मिल कर ही काम कर सकती हैं। लोजपा ने अपने को दरकिनार किये जाने पर नाराजगी जाहिर की है। रविवार को लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी कहा था कि भाजपा और जदयू पहले घटक दलों का हिस्सा बांट दें फिर वे बराबर- बराबर सीटों पर चुनाव लड़ लें।

Find Us on Facebook

Trending News