छठ को लेकर अलर्ट मोड में रहेगी एनडीआरएफ की टीम, बिहार में 14 और झारखण्ड में 3 टीमों की हुई तैनाती

छठ को लेकर अलर्ट मोड में रहेगी एनडीआरएफ की टीम, बिहार में 14 और झारखण्ड में 3 टीमों की हुई तैनाती

PATNA : कार्तिक छठ पूजा के अवसर पर 9 वीं बटालियन एनडीआरएफ बिहटा (पटना) की 17 टीमें क्रमश: बिहार और झारखण्‍ड राज्‍य में तैनात की गई हैा जिसमें बिहार राज्‍य मे 14 टीम पटना, बक्सर, भोजपुर, दरभंगा, नालंदा, मुंगेर और सुपौल जिले में एवं 03 टीम झारखण्‍ड राज्‍य के रॉची, जमशेदपुर और देवघर जिले के विभिन्न घाटों पर रेस्क्यू मोटर बोट और अत्याधुनिक बाढ़-बचाव उपकरणों के साथ तैनाती की गई है। ये सभी टीमें बिहार एवं झारखण्‍ड राज्‍य के विभिन्‍न जिलों में 07 नवंबर से लेकर 11 नवम्बर  तक विभिन्‍न घाटों पर बोटों से लगातार श्रद्धालुओं की सुरक्षा में उपस्थित रहेंगी, जिससे किसी भी अप्रिय घटना को रोका जा सके।

विजय सिन्हा कमाण्डेंट ने बताया कि इस साल छठ पर्व के अवसर पर बिहार में 9 वीं बटालियन एनडीआरएफ की 13 टीमें जिसमे 7 टीमो में 400 से अधिक बचाव कर्मी 70 रेस्क्यू मोटर बोटों के साथ दानापुर पीपापुल घाट से पटना सिटी भट्ठा घाट तक गंगा नदी के विभिन्‍न घाटों पर तथा 6 टीमें बिहार के विभन्‍न जिलों में तैनात की गई है। उन्‍होने बताया कि सभी टीमें कुशल तैराक, गोताखोर, अत्याधुनिक बाढ-बचाव व संचार उपकरणों से लैस है, जिससे किसी भी अप्रिय घटना पर नियंत्रण किया जा सके। तैनाती के दौरान पटना के गाँधी घाट पर एनडीआरएफ द्वारा टेक हैडक्वार्टर हरविंदर सिंह सेकंड इन कमांड के नेतृत्व में स्थापित किया गया है जिससे सभी टीमों तथा जिला प्रशासन में आपसी समन्वय स्‍थापित रहे। सभी टीमों के साथ मेडिकल स्टाफ पर्याप्त मात्रा में आवश्यक दवाईयों के साथ मौजूद रहेंगे। गाँधी घाट, गाय घाट, कुर्जी घाट तथा दीघा घाट पर एनडीआरएफ के चिकित्सा अधिकारी की मौजूदगी में मैडिकल  कैम्प स्थापित किया जायेगा। इसके अलावा 03 रिवर एम्बुलेंस भी गंगा नदी के घाटों पर छठ पूजा के दौरान पेट्रोलिंग करती रहेगी। जिससे कोई अप्रिय घटना घटने पर तुरंत कार्यवाही कर सके। एनडीआरएफ की एक टीम को दीदारगंज, पटना में अलर्ट पर रखा गया है।

सिन्‍हा ने बताया कि झारखण्‍ड राज्‍य में भी 3 टीमें  विभिन्‍न जिलों में छठ पूजा के दौरान तैनात रहेगी। उन्‍हेाने श्रद्धालुओं से भी आग्रह किया कि नदी/तालाब के वैरेकेटिंग के आगे काफी गहराई है अत: किसी भी स्थिति में स्नान के दौरान बैरेकेटिंग के आगे न जायें और कोविड प्रोटोकॉल का पालन करे।

Find Us on Facebook

Trending News