आंबेडकर छात्रावास में लापरवाही : फूड प्वाइजनिंग की शिकार हुई छात्राओं तो हॉस्टल छोड़ फरार हुए शिक्षक व प्रिंसिपल

आंबेडकर छात्रावास में लापरवाही : फूड प्वाइजनिंग की शिकार हुई छात्राओं तो हॉस्टल छोड़ फरार हुए शिक्षक व प्रिंसिपल

वैशाली. बिहार के हाजीपुर में सरकारी दलित छात्रावास में गंभीर लापरवाही का मामला सामने आया है. 300 से ज्यादा लड़कियों के छात्रावास को जिन अधिकारियों के भरोसे छोड़ा गया है, उनके कर्ताधर्ता और अधिकारियों के छात्रावास छोड़कर फरार होने का खुलासा हुआ है. गंभीर बात ये है कि बुरे हालात में दलित छात्राओं को छात्रावास के सुरक्षाकर्मियों के भरोसे छोड़ दिया गया है.

छात्रावास में लापरवाही

देर रात एक साथ कई बच्चियों के बीमार होने के बाद छात्रावास की गंभीर लापरवाही का खुलासा हुआ. जिले के इकलौते दलित छात्राओं के लिए बने आंबेडकर छात्रावास की कई लड़किया अचानक बीमार हो गई. फूड प्वाइजनिंग की शिकार छात्राओं के बिगड़े हालात को देख छात्राओं को अस्पताल पहुंचाने की नौबत आ गई, लेकिन 300 से ज्यादा दलित छात्राओं के इस छात्रावास को जिन कर्मियों के भरोसे छोड़ा गया था, वे देर रात छात्रावास से नदारत थे. नतीजा ये हुआ कि छात्रावास की महिला सुरक्षाकर्मी छात्राओं को ऑटो से लेकर अस्पताल पहुंची.

अस्पताल प्रबंधन ने खोली पोल

छात्रावास की व्यवस्था की कलई न खुल जाए इसको लेकर अस्पताल पहुंची महिला सुरक्षा कर्मी मामले को छुपाने की कोशिश करती दिखी और अस्पताल पहुंची महिला सुरक्षाकर्मी ने महज 2 छात्राओं के बीमार होने की बात कही, लेकिन अस्पताल में भर्ती बीमार छात्राओं की जानकारी के बारे में अस्पताल प्रबंधन ने पोल खोल दी और अस्पताल के प्रबंधकों और डाक्टर ने कई छात्राओं के भर्ती होने की बात कही. डॉक्टर ने कहा की फ़ूड पोजीनिंग छात्राओं के बीमार होने की वजह हो सकती है.

वहीं छात्रावास की छात्राओं को सुरक्षाकर्मियों के भरोसे छोड़ अधिकारियों के फरार होने के सवाल पर मौके पर मौजूद महिला सुरक्षा कर्मी हकलाती दिखी. पूरी तस्वीर ने छात्रावास में रह रही गरीब दलित छात्राओं की सुरक्षा और व्यवस्था में गंभीर लापरवाही को उजागर किया है.

फूड प्वाइजनिं हो सकती है वजह

ऑन ड्यूटी डाक्टर अमरनाथ रॉय से मामले के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी तक तो 5 बच्चियां आई है. सभी अंबेडकर छात्रावास आवासीय विद्यालय की है. सबके साथ ऑबडोमिनल पेन की शिकायत है. उन्होंने कहा कि इसकी वजह कुछ भी हो सकती है. फूड प्वाइजनिंग भी हो सकती है.

 सुपरिटेंडेंट स्कूल नहीं आई

छात्रावास की सुरक्षी गॉर्ड उर्मिला देवी ने बताया कि 2 बच्ची बीमार है. बच्चियों को हम लेकर आये हैं और एक और गॉर्ड है. वहीं कोई भी शिक्षक और प्रिंसिपल नहीं आये हैं. साथ ही मैडम (सुपरिटेंडेंट) स्कूल में नहीं है.

हाजीपुर से विकाश महापात्रा की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News