नई व्यवस्था : घर-घर पोलियो की खुराक पिलाने के साथ अब कोरोना वैक्सीनेशन के वंचितों की भी ली जाएगी जानकारी

नई व्यवस्था : घर-घर पोलियो की खुराक पिलाने के साथ अब कोरोना वैक्सीनेशन के वंचितों की भी ली जाएगी जानकारी

PATNA : बिहार में पल्स पोलियो अभियान के तहत घर घर पांच साल के छोटे बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाने के साथ अब आशा कोरोना वैक्सीनेशन से वंचित लोगों के बारे में जानकारी इकट्ठा करेंगी। इस संबंध में सरकार की सोच है कि जो लोग अब तक वैक्सीन नहीं ले सके हैं, उनके बारे में सही जानकारी मिल सकेगी। 

बता दें कि रविवार 27 फरवरी से प्रदेश में पांच दिन तक पल्स पोलियो अभियान के दौरान घर-घर जाकर खुराक खिलाने वाली आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता यह भी पता लगाएंगी कि घर के किसी किशोर ने अबतक क्या कोरोना का टीका नहीं लगवाया है? जिसकी जानकारी वह कोरोना वैक्सीनेशन मोबाइल टीम को देंगी। मोबाइल टीम वंचित किशोर को कोरोना टीका देगी। टीकाकरण से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शहर के किशोर टीका लेने के लिए केंद्रों पर पहुंच रहे हैं, लेकिन गांव में रहने वाले कम आ रहे हैं।

दरअसल, इंटर परीक्षा शुरू होने से पहले परीक्षार्थियों को कोरोना टीका दिलाने का लक्ष्य पूरा नहीं हो सका। परीक्षा खत्म हो गई। अब भी बिहार की 15-18 आयु वर्ग की कुल 83.46 लाख आबादी में से 48.50 लाख ने ही कोरोना वैक्सीन की पहली डोज ली है। पटना जिले में अभी तक तीन लाख किशोरों का टीकाकरण नहीं हो पाया है। जिले में 15 से 17 साल के करीब 4 लाख 93 हजार किशोर हैं। 

बता दें कि राज्य में अबतक 11,88,10,665 डोज लगाई जा चुकी है। राज्य में अबतक 7,38,920 लोग प्रिकॉशनरी डोज ले चुके हैं।


Find Us on Facebook

Trending News