अपराधियो का नया ट्रेंड : लूट के दौरान माल के साथ-साथ उखाड़ ले जा रहे सीसीटीवी और डीवीआर, अब क्या करेगी पुलिस ?

अपराधियो का नया ट्रेंड : लूट के दौरान माल के साथ-साथ उखाड़ ले जा रहे सीसीटीवी और डीवीआर, अब क्या करेगी पुलिस ?

PATNA : राजधानी पटना में बीते 21 जून को दिनदहाड़े ज्वेलरी दुकान में करोड़ो की हुई लूट ने पुलिस की नींद उड़ा दी है। घटना के दौरान अपराधियों द्वारा सीसीटीवी का डीवीआर साथ लेते जाने से पुलिस की परेशानी और बढ़ गई है। उसके हाथ कोई ठोस सुराग नहीं मिल पाया है। नतीजतन घटना के 48 घंटे बाद भी पुलिस अपराधियों तक पहुंचने में नाकामयाब है। 

दरअसल यह कोई पहली घटना नहीं जब अपराधी घटना को अंजाम देने के बाद सीसीटीवी के डीवीआर को अपने साथ ले गए हो। 

पिछले डेढ़ साल में लूट, चोरी और डकैती की घटना में अपराधी लूट के माल के साथ-साथ सीसीटीवी के डीवीआर को अपने साथ ले गए है। पुलिस की मानें तो लूट, चोरी और डकैती के 70 प्रतिशत मामलों में सीसीटीवी का डीवीआर उनके हाथ नहीं लगता है। अपराधी या तो उसे अपने साथ लेते जाते है या फिर उसे पूरी तरह से तहस-नहस कर डालते है। 

पंचवटी ज्वलेर्स में हुई यह कोई पहली घटना नहीं जब अपराधी लूट के बाद सीसीटीवी का डीवीआर भी अपने साथ लेते गए है। इससे पहले रुपसपुर थाना से महज चंद कदम की दूरी पर ही अपराधियों ने दिन-दहाड़े एक ज्वेलरी दुकान को निशाना बनाया था। उस घटना में भी अपराधी लूट के बाद जाते-जाते डीवीआर अपने साथ ले गए थे। 

अपराधियों के इस नये ट्रेंड ने पुलिस की परेशानी बढ़ा दी है। सुरक्षा और किसी भी प्रकार की घटना को कैमरे में कैद करने के उद्देश्य से दुकानों और घरों में लगे कैमरे भी अब लोगों के साथ-साथ पुलिस के लिए कोई कारगर साबित नहीं हो रहा है। घटना के बाद अपराधियों की तलाश में जुटी पुलिस को कोई अहम सुराग नहीं मिलने से उन्हें खासी परेशानी हो रही है। अब सबसे अमह सवाल यह यह है कि डीवीआर को अपने साथ ले जाने के इस नये ट्रेंड के बाद पुलिस अपराधियों को पकड़ने और घटना पर रोक लगाने के लिए क्या क

पिछले डेढ़ साल में लूट, डकैती और चोरी की घटना में जो सबसे बड़ी बात सामने आई है वह यह है कि अपराधी घटना को अंजाम देने के बाद अपने साथ डीवीआर को ले जाना नहीं भूल रहे हैं। ऐसे में सवाल यह है कि अब इस मामले को लेकर पुलिस क्या करेगी?

Find Us on Facebook

Trending News