सुपौल में निजी अस्पताल संचालक ने दिखाई मानवता, गंभीर रूप से बीमार बच्चे का किया मुफ्त में इलाज

सुपौल में निजी अस्पताल संचालक ने दिखाई मानवता, गंभीर रूप से बीमार बच्चे का किया मुफ्त में इलाज

SUPAUL : आम तौर पर आए दिन कुछ निजी क्लीनिकों का कारनामा सुर्खियों में रहता है. लेकिन इन सब के बीच कुछ ऐसे भी निजी क्लिनिक हैं जो कमाई के साथ साथ मानवता की सेवा को भी अपना अहम कर्तव्य मानते है. कुछ ऐसा ही मामला सदर बाजार के एक निजी क्लिनिक में सामने आया है. 

दरअसल सदर बाजार स्थित एक निजी क्लिनिक लाइफ लाइन हॉस्पिटल में करीब दस दिन पहले ओम ब्यास नामक बालक को उसके परिजन जो, करजाइन थाना क्षेत्र का निवासी बताये जाते हैं. उसे बेहोशी की हालत में लाइफ लाइन हॉस्पिटल में इलाज के लिए लेकर आये. बालक की हालत काफी गंभीर बताई गई. लिहाजा क्लिनिक में डॉक्टरों की पांच सदस्यीय टीम द्वारा मरीज की जांच की गई. जिसके बाद मरीज के इलाज में काफी खर्च होने की जानकारी परिजन को दिया गया. चूंकि मरीज के परिजन की आर्थिक स्थिति काफी कमजोर थी. लिहाजा वे मरीज का इलाज करवाने में असमर्थ थे. 

इसी बीच अपनी मरीज के पिता ने डॉक्टर से विनती कर अपने हालात जानकारी दी. साथ ही बेटे को बचाने के लिए आरजू विनती की. परिजन के हालात को देखते हुए डॉ मदन कुमार की भी आंखें नम हो गई. उन्होंने परिजन को आश्वासन दिया कि मरीज को पूर्णतः सुधार देंगे. पैसे की चिंता नहीं करें. मरीज के परिजनों की स्थिति देख डॉक्टर ने दवा व आइसीयू का खर्च भी नहीं लेने का आश्वासन परिजनों को दिया. 

जिसके बाद मरीज का इलाज किया गया और दस दिन बाद मरीज अब स्वस्थ है. परिजनों ने इसके लिए डॉक्टर और क्लिनिक संचालक का आभार व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि उनकी गरीबी शायद उनके बेटे की जान ले लेती. लेकिन भगवान के रूप में क्लिनिक के डॉक्टर ने मरीज का मुफ्त में इलाज किया है. जिसका वे कभी भी कर्ज नहीं चुका पाएंगे. 

सुपौल से अल्ताफ राजा की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News