नीति आयोग बिहार के साथ नाइंसाफी कर रहा ! ललन सिंह बोले- बंटवारे के बाद सिर्फ बालू-आलू और लालू ही बचे थे

नीति आयोग बिहार के साथ नाइंसाफी कर रहा ! ललन सिंह बोले- बंटवारे के बाद सिर्फ बालू-आलू और लालू ही बचे थे

PATNA: नीति आयोग की रिपोर्ट  बिहार में राजनीति गरम है। रिपोर्ट में बिहार को हर मोर्चों पर फिसड्डी बताने पर विपक्षी दलों ने सीएम नीतीश को जिम्मेदार बताया है।विपक्षी दल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पंद्रह साल के कार्यकाल पर सवाल खड़े कर रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश की नीति को इसका जिम्मेदार बताया है। वहीं जेडीयू-बीजेपी ने नीति आयोग की रिपोर्ट को सिरे से खारिज किया है। अब जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने नीति आयोग के बहाने नई पीढ़ी को लालू-राबड़ी राज को याद कराया है।  

सत्ताधारी जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने नीति आयोग की रिपोर्ट पर सवाल खड़े किये हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के साथ नाइंसाफी की जा रही। सांसद राजीव रंजन सिंह ने ट्वीट कर कहा कि विभाजन के बाद बिहार में सिर्फ़ बालू, आलू और लालू ही बचे थे। खजाने लूट चुके थे, व्यवस्थाएं चौपट थी. भौगोलिक स्थिति के कारण हर वर्ष आपदाओं का कहर भी है! ऐसे में गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल व गोआ जैसे संसाधनयुक्त प्रदेशों से नीति आयोग द्वारा बिहार की तुलना नाइंसाफी है।

जेडीयू राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, वाकई में नीति आयोग ईमानदारी से बिहार में सुशासन के 15 साल में हुए विकास की तुलना करना चाहता है तो 1990-2005 के जंगलराज से तुलना करे. वर्तमान बिहार का विकास दर देशभर में सबसे ज्यादा ही मिलेगा। युवाओं को बड़े-बुजुर्गों से लालू काल की रूह कंपाने वाली कहानियां सुननी चाहिए।

Find Us on Facebook

Trending News