खुद को पॉलिटिकल 'दाता' बताने में जुटे 'नीतीश' ! रामविलास-चिराग से पहले सम्राट-शकुनी की खिल्ली उड़ाई थी, तब सम्राट ने किया था खुलासा- हमारे पिता का पैर पकड़ CM कैंडिडेट बने थे

खुद को पॉलिटिकल 'दाता' बताने में जुटे 'नीतीश' ! रामविलास-चिराग से पहले सम्राट-शकुनी की खिल्ली उड़ाई थी, तब सम्राट ने किया था खुलासा- हमारे पिता का पैर पकड़ CM कैंडिडेट बने थे

PATNA:  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विपक्षी नेताओं के तेवर से खासे परेशान हैं. लिहाजा वे नेताओं को बच्चा-लड़का कह कर संबोधित कर रहे. साथ ही इन नेताओं के पिता को की गई परोक्ष-अपरोक्ष मदद की दुहाई दे रहे. नीतीश कुमार यह कह कर लोगों को बताने की कोशिश कर रहे कि वे ही बिहार के पॉलिटिकल दानवीर हैं. सीएम नीतीश कभी विप में विरोधी दल के नेता सम्राट चौधरी व इनके पिता शकुनी चौधरी को दिये गये इज्जत-सम्मान की याद कराते हैं तो कभी चिराग पासवान के पिता रामविलास पासवान को दिये सम्मान का। यानी नीतीश कुमार अपने आप को बिहार का सबसे बड़ा पॉलिटिकल मददगार साबित करने जबरदस्त रूप से जुटे हैं. 

रामविलास पासवान को सम्मान और समर्थन दोनों दिया था-नीतीश 

सीएम नीतीश कुमार ने आज चिराग पासवान को बच्चा कहा. लगे हाथ इनके पिता दिवंगत रामविलास पासवान को दिये सम्मान और समर्थन को याद कराया। कहा कि हमने चिराग के पिता को समर्थन भी दिया था. चिराग पासवान लड़का-बच्चा है वह मेरे ही कैंडिडेट के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतार दिया था। नीतीश कुमार यहीं नहीं रूके रामविलास पासवान ने दिल्ली जाकर जो दूसरी शादी की थी,उसकी भी चर्चा कर दी। इसके पहले इसी महीने की 8 तारीख को नीतीश कुमार ने बीजेपी नेता सम्राट चौधरी पर वार किया था। 

..तब नीतीश ने सम्राट और इनके पिता शकुनी चौधरी को लपेटा था 

बीजेपी के 'सम्राट' से सीएम नीतीश इतने परेशान हो गये सार्वजनिक तौर पर कहना पड़ा कि बीजेपी वालों ने एक लड़का लाया है,वो कुछ-कुछ बोल रहा है। लेकिन उसके पिता को हमने कितना सम्मान दिया,वो भूल गया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गांधी मैदान स्थित जेपी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी वाले कोई 'लड़का' को ला कर रखे हैं .वह क्या था..... पहले था आरजेडी में, फिर मेरे यहां आया जेडीयू में.अब गया है बीजेपी में.वह क्या कर रहा है... उसके पिता को कौन इज्जत दिया था, हम ही लोग ने दिए थे जी....। जब समता पार्टी बना था उस समय गांधी मैदान में.... उसी में न इंडिपेंडेंट थे तो शामिल कराये थे। जिसको हमने बहुत कुछ दिया है, वह भूल जाते हैं. क्या-क्या बोलते रहता है.... हमको तो समझ में नहीं आता .

सम्राट चौधरी ने सीएम नीतीश को दिया था जवाब 

खुद को लड़का और पिता को नीतीश कुमार द्वारा सम्मान देने की बात पर बीजेपी नेता सम्राट चौधरी ने नीतीश कुमार के खिलाफ जमकर बोला था। उसी दिन प्रेस कांफ्रेंस कर विप में नेता प्रतिपक्ष ने सीएम नीतीश की भी जमकर खिल्ली उड़ाई थी. उन्होंने भी नीतीश कुमार को लड़का कहकर संबोधित किया था. सम्राट ने खुलासा किया था कि नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री कैंडिडेट बनने के लिए हमारे पिता शकुनी चौधरी का पैर पकड़ा था. तब सम्राट चौधरी ने कहा था कि नीतीश कुमार अपने कैरेक्टर के बारे में क्यों नहीं बताते? वे सात दफे पार्टी बदले हैं. 

मेरा पिता का गोड़ पकड़कर सीएम कैंडिडेट बने थे नीतीश 

सम्राट चौधरी ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा था कि 7 बार पार्टी बदलने वाला नेता या वह लड़का बिहार की राजनीति में कितने गठबंधन और कितने नेताओं की राजनीतिक हत्या की होगी आप सोच सकते हैं. 1994 में जॉर्ज साहब के नेतृत्व में पार्टी का टूटना और मेरे पिताजी (शकुनी चौधरी) के कहने पर समता पार्टी का गठन हुआ था। मेरे पिताजी से 20 साल छोटे हैं इसलिए हम लड़का कह रहे हैं. हम से वे 20 साल बड़े हो सकते हैं, लेकिन मेरे पिताजी से 20 साल छोटे हैं. इन्होंने गोड़ पकड़ा था हमारे पिता शकुनी चौधरी की। पैर पकड़कर कहा था कि हम को मुख्यमंत्री घोषित करिए, तभी हम पार्टी के अंदर आएंगे.समता पार्टी में नीतीश कुमार तब आए जब इन्होंने कमिटमेंट करा लिया है कि हमें बिहार का मुख्यमंत्री घोषित करना होगा.

Find Us on Facebook

Trending News