CM नीतीश के घोटालेबाज मंत्री से मिले तेजस्वी यादव के सांसद,,जानिए...

CM नीतीश के घोटालेबाज मंत्री से मिले तेजस्वी यादव के सांसद,,जानिए...

पटना... मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में घोटाले और भ्रष्टाचार के आरोपी मंत्री से तेजस्वी यादव के सांसद ने मुलाकात की है। राजद के राज्यसभा सांसद अशफाक करीम भ्रष्टाचार के आरोपी मंत्री मेवालाल चौधरी के आवास पर पहुंचे और उनसे मुलाकात की। मुलाकात के दौरान दोनों के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई। तेजस्वी के सिपाही राज्यसभा सांसद अशफाक क्रीम ने कहा कि मंत्री जी को बधाई देने आए थे, और दूसरा कोई वजह नही है। वही मंत्री जो घोटाले के आरोपी हैं और नीतीश कुमार ने शिक्षा मंत्री बनाया है। उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं कि सबका सहयोग मिले सब के साथ मिलकर विकास की गाड़ी को आगे बढ़ाएंगे। 

मामले के गरमाता देख सफाई देते हुए अशफाक करीम कहते हैं कि वह जदयू नेता मेवलाल चौधरी को बधाई देने नहीं, बल्कि बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री को बधाई देने आए हैं। तेजस्वी यादव का विरोधी दल होने के नाते सरकार पर जो आरोप है वह अपनी जगह है। वे सरकार के शिक्षा मंत्री से मिलने आए हैं।

तेजस्वी का नीतीश पर अटैक

एक तरफ तेजस्वी यादव के सांसद घोटाले के आरोपी मंत्री से मुलाकात करते हैं वहीं तेजस्वी यादव मेवालाल के बहाने नीतीश कुमार पर हमला कर रहे हैं. तेजस्वी ने ट्वीट ने कहा क भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में भगौडे आरोपी को शिक्षा मंत्री बना दिया। अल्पसंख्यक समुदायों में से किसी को भी मंत्री नहीं बनाया। सत्ता संरक्षित अपराधियों की मौज है। रिकॉर्डतोड़ अपराध की बहार है। कुर्सी ख़ातिर Crime, Corruption और Communalism पर मुख्यमंत्री जी प्रवचन जारी रखेंगे।

मेवालाल पर घोटाले के हैं गंभीर आरोप

जेडीयू के विधायक मेवालाल चौधरी जिस पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं और बिहार की निगरानी जांच ब्यूरो ने केस दर्ज कराया था उनको भी मंत्री पद से सम्मानित किया गया है। जेडीयू के विधायक और वर्तमान में मंत्री पद की शपथ ले चुके मेवालाल चौधरी 2010-15 के बीच में सबौर कृषि विवि में वाइस चांसलर थे। इन पर जूनियर वैज्ञानिक की बहाली में धांधली और भवन निर्माण में घपला के गंभीर आरोप हैं। मामला सामने आने के बाद बिहार में काफी हाय-तौबा मची थी। बिहार में नीतीश सरकार की फजीहत होने के बाद इस मामले की निगरानी ब्यूरो से जांच कराई गई। निगरानी ब्यूरो की जांच में आरोप प्रमाणित हुए इसके बाद मेवालाल चौधरी पर स्पेशल विजिलेंस ने 2017 में केस दर्ज किया था और भागलपुर के सबौर थाने में भी 2017 में केस दर्ज हुआ था. जदयू के विधायक मेवालाल चौधरी के खिलाफ आईपीसी की धारा 409, 420, 46,7 468, 471 और 120 बी के तहत भ्रष्टाचार के मुकदमा दर्ज है। इनके खिलाफ अभी भागलपुर के एडीजे-1 की अदालत में मामला लंबित है। 

Find Us on Facebook

Trending News