शराबबंदी पर सख्त हुए नीतीश कुमार तो बिहार की जेलों में हो गई कैदियों की भरमार, पिछले एक महीने में टूटा कैदियों का रिकॉर्ड

शराबबंदी पर सख्त हुए नीतीश कुमार तो बिहार की जेलों में हो गई कैदियों की भरमार, पिछले एक महीने में टूटा कैदियों का रिकॉर्ड

पटना. शराबबंदी को बिहार में सख्ती से लागू करने के लिए पिछले कुछ दिनों से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सक्रियता बढ़ गई है. इसे लेकर बिहार पुलिस भी लगातार शराब तस्करों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. एक अनुमान के अनुसार पिछले एक महीने के दौरान राज्य में पांच हजार से ज्यादा से लोगों की गिरफ्तारी हुई है जिसमें सबसे ज्यादा गिरफ्तारी शराब से समबन्धित मामलों की है. 

बिहार गृह विभाग के आंकड़ों के अनुसार इस समय राज्य की 59 जेलों में 68 हजार से ज्यादा कैदी बंद है. यह वर्ष 2021 में जेल में बंद कैदियों की सर्वाधिक संख्या है. इसके पहले राज्य में सितम्बर में 65106 कैदी बंद थे. बाद में इस संख्या में करीब दो हजार की कमी आई लेकिन अब एक बार फिर से कैदियों की संख्या में तेज बढ़ोत्तरी हुई है. 

बिहार के विभिन्न जिलों में केन्द्रीय सहित अन्य प्रकार के कारागारों की कुल संख्या 59 है. इसमें कैदियों की कुल क्षमता 46 हजार 669 है. लेकिन मौजूदा समय में 1 दिसम्बर तक राज्य में 68526 कैदी बंद हैं जो जेलों की कुल क्षमता से 22 हजार से ज्यादा है. 

राज्य की जेलों में पिछले एक महीने के दौरान कैदियों की संख्या बढ़ने पर गृह विभाग के सूत्रों का कहना है कि इसका एक बड़ा कारण शराबबंदी के मामलों में हो रही ताबड़तोड़ गिरफ्तारियां हैं. पिछले एक सप्ताह के दौरान राज्य में 2200 से अधिक लोग शराबबंदी में गिरफ्तार हुए हैं. इसमें 1997 को पुलिस ने जबकि उत्पाद विभाग ने 223 को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। इस समय बिहार के हाउसफुल हो चुके जेलों में 65,475 पुरुष जबकि 3051 महिला कैदी बंद हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News