बिहार प्रतिभाओं से खिलवाड़ कर रहे नीतीश कुमार, विजय सिन्हा का बड़ा आरोप... प्रश्न पत्र लीक मामले में हो रही खानापूर्ति

बिहार प्रतिभाओं से खिलवाड़ कर रहे नीतीश कुमार,  विजय सिन्हा का बड़ा आरोप... प्रश्न पत्र लीक मामले में हो रही खानापूर्ति

पटना. प्रश्न पत्र लीक होने के आलोचनाओं से घिरी नीतीश सरकार पर भाजपा ने आरोप लगाया है कि राज्य की संस्थाओं की विश्वसनीयता खत्म होते जा रही है. नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने मंगलवार को कहा कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की सचिवालय सहायक की परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक हो गया. आरोपी भी गिरफ्तार हुआ है लेकिन उसके बाद भी बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि BSSC पेपर लीक करा कर नीतीश कुमार राज्य के युवाओं की प्रतिभाओं को कुचल रहे हैं. परीक्षा की सीबीआई जांच कराने की बजाय, छोटे अधिकारी को पकड़ कर खानापूर्ति कर रही है.

विजय सिन्हा ने तेजस्वी यादव को भी निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि तेजस्वी जब विपक्ष में थे, तब युवाओं को 5 हजार रूपये देने की बात कही थी लेकिन सत्ता के गोद में बैठते सब भूल गए. आज राज्य के लाखों युवा परीक्षा के नाम पर परेशान हैं. नीतीश सरकार से मामले की सीबीआई जांच की मांग की. दरअसल राज्य सरकार ने अब तक परीक्षा भी रद्द करने की घोषणा नहीं की. इससे भी लाखों अभ्यर्थियों में संशय की स्थिति बनी हुई है. 

बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की सचिवालय सहायक की परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक हुए तीन दिन बीत चुके हैं. वाबजूद इसके परीक्षा का क्या होगा इसे लेकर अब तक असमंजस की स्थिति बनी हुई है. 23 और 24 दिसम्बर को परीक्षा हुई थी. लेकिन 23 दिसम्बर को ही प्रश्न पत्र लीक होने का मामला सामने आया और इस मामले में आर्थिक अपराध इकाई (इओयू) ने कुछ जगहों पर छापेमारी कर आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है. पुलिस और आयोग से जुड़े लोग भी मानते हैं कि प्रश्न पत्र लीक हुआ था. इसके बाद भी परीक्षा को रद्द करने संबंधी कोई आदेश अब तक जारी नहीं हुआ है. 

असमंजस की स्थिति के बीच जहाँ अभ्यर्थियों का बड़ा वर्ग इस परीक्षा में पारदर्शिता नहीं रह जाने के कारण परीक्षा रद्द करने की मांग कर रहा है. यहां तक कि कांग्रेस सहित नीतीश सरकार में शामिल अन्य कई दल भी परीक्षा को रद्द करने की मांग कर चुके हैं. इसके बाद भी अब तक नीतीश सरकार की ओर से कुछ भी साफ नहीं किया जा रहा है. दूसरी ओर इस असमंजस की स्थिति ने अभ्यर्थियों की चिंता बढ़ा दी है. अभ्यर्थियों का कहना है कि जिस परीक्षा में प्रश्न पत्र लीक हो गया, आरोपी पकड़ा गया, सबूत मिल गए उसमें कोई कैसे कह सकते हैं कि परीक्षा के बाद कि सही रिजल्ट जारी होगा. 

राज्य में करीब 9 लाख अभ्यर्थी इस परीक्षा में शामिल हुए थे. BSSC तृतीय स्नातक की परीक्षा को रद्द करने को लेकर शिक्षा मंत्री डॉ चंद्रशेखर भी निशाने पर हैं. उन्होंने पहले दिन ही कहा था कि मामले की जांच की जा रही है और अगर प्रश्न पत्र लीक हुआ है तो उस पर उचित निर्णय लिया जाएगा. यहां तक कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी इसे लेकर सवाल किया गया था. वहीं तेजस्वी यादव को भी इस मुद्दे पर सवाल किया गया जबकि विपक्षी दल भाजपा लगातार सरकार पर दबाव बनाए हुए है. 


Find Us on Facebook

Trending News