नीतीश राज में परिवहन विभाग के अधिकारी बेलगाम ! दरभंगा डीटीओ की दबंगई से पहले मुजफ्फरपुर एमवीआई के कारस्तानी की खुल चुकी है पोल

नीतीश राज में परिवहन विभाग के अधिकारी बेलगाम ! दरभंगा डीटीओ की दबंगई से पहले मुजफ्फरपुर एमवीआई के कारस्तानी की खुल चुकी है पोल

PATNA:  बिहार के सुशासन वाली सरकार में परिवहन विभाग के अधिकारी कायदे-कानून को ताक पर रखकर काम करते हैं।विभाग के अधिकारी इतने बेलगाम हो गए हैं कि वो कुछ भी कर सकते हैं,मानो उन्हें कानून का कोई भय नहीं ।परिवहन विभाग के अधिकारी बिना डरे कोई भी गलत काम करने में सक्षम होते हैं। दरभंगा में डीटीओ का कारनामा सबके सामने है..जहां मन मुताबिक काम नहीं करने पर डीटीओ ने भवन निर्माण विभाग के अभियंता की गाड़ी जब्त कर ली।वहीं कुछ महीनों पर पैसे के खातिर मुजफ्फरपुर के एमवीआई ने दूसरे जिले के थानों में जब्त गाड़ियों का फिटनेस सर्टिफिकेट जारी कर दिया था।वहीं पटना डीटीओ दफ्तर का भी वही हाल है जहां पैसा लेकर कुछ भी संभव है। लेकिन विभाग के वरीय अधिकारी वैसे अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं करते।खबर तो यह भी है कि वरीय अधिकारियों के संरक्षण में हीं पूरा धंधा संचालित होता है।

न्यूज4नेशन ने पहले भी इस तरह के गलत कामों को उजागर किया था।लेकिन विभाग के वरीय अधिकारियों ने घूूसखोर और गलत काम करने वाले  अफसरों पर कोई कार्रवाई नहीं की।

डीटीओ की दबंगई की खुली पोल

अब एक बार फिर से दरभंगा के डीटीओ का कृत्य सामने आया है।डीटीओ ने सारे नियम कानून को ताक पर रखकर एक इंजीनियर की सरकारी गाड़ी को जब्त कर लिया।मामला जब बढ़ा तो दरभंगा डीएम ने जांच कराई।इसके बाद डीटीओ राजीव कुमार की दबंगई का मामला सबके सामने आ गया। डीटीओ की दबंगई सामने आने पर 23 जुलाई को हीं डीएम ने कार्रवाई के लिए सामान्य प्रशासन विभाग से सिफारिश कर दी।अब चूंकि डीटीओ पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है तो डीटीओ ने इस्तीफे की चाल चली। अपने को फंसते देख दरभंगा डीटीओ ने व्यवस्था पर हीं सवाल उठाकर इस्तीफा पत्र लिख दिया ।

शायद उसने व्यवस्था पर चोट कर यह बताने की कोशिश की कि उनके साथ अन्याय किया जा रहा।लेकिन दरभंगा डीएम के पत्र ने परिवहन विभाग के अधिकारियों की पोल रख दी।डीएम ने सीधे तौर पर डीटीओ की कारस्तनी को सबके सामने ला दिया और कार्रवाई की सिफारिश कर दी।

मुजफ्फरपुर एमवीआई दिव्य प्रकाश पर थे गंभीर आरोप

न्यूज4नेशन ने खुलासा किया था कि “पटना से मुजफ्फरपुर तक पैसे का बोलबाला, जेब गरम होते ही जारी हो जाता है कोई भी आदेश”। किस तरह मुजफ्फरपुर के मोटरयान निरीक्षक (MVI) दिव्य प्रकाश ने सारे नियमों की अनदेखी कर पुलिस द्वारा जब्त कर थाने में रखे ट्रकों का फिटनेस सर्टिफिकेट जारी कर दिया था।

बता दें कि दिव्य प्रकाश ने दो ऐसे ट्रकों का पहला ट्रक BR06G-2467 जो रक्सौल थाना और दूसरी गाड़ी BRO6G-4920 को हरसिद्धि थाने ने जब्त कर रखा था। MVI साहब दिव्य प्रकाश ने गाड़ी संख्या BR06G 2467 और BRO6G-4920 का फिटनेस सर्टिफिकेट पुलिस द्वारा जब्त किए जाने के बाद भी जारी कर दिया। रक्सौल पुलिस ने जिस ट्रक को 1 अगस्त 2018 को जब्त किया, मुजफ्फरपुर MVI ने उसके दो दिन बाद यानी 3 अगस्त 2018 को उसी ट्रक का फिटनेस दे दिया। वही दूसरा ट्रक जो हरसिद्धि थाने ने जब्त कर रखा था, उस गाड़ी को भी एमवीआई ने मुजफ्फरपुर में बैठे-बैठे फिटनेस सर्टिफिकेट जारी कर दिया।

एमवीआई पर क्या कार्रवाई हुई बताने को कोई तैयार नहीं

मुजफ्फरपुर एमवीआई पर क्या कार्रवाई हुई इसको बताने के लिए कोई तैयार नहीं।हालांकि विभाग के सचिव संजय अग्रवाल ने साफ किया था कि एमवीआई के खिलाफ जांच की जा रही है।जांच के आदेश के महीनों बीत गए लेकिन जांच का नतीजा क्या निकला यह बताने के लिए कोई तैयार नहीं। 


Find Us on Facebook

Trending News