नीतीश-तेजस्वी देंगे भाजपा को बहुत बड़ा झटका, उठना हो जायेगा मुश्किल..लालू कर रहे सेट

नीतीश-तेजस्वी देंगे भाजपा को बहुत बड़ा झटका, उठना हो जायेगा मुश्किल..लालू कर रहे सेट

पटना. बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार केंद्र की भाजपा सरकार को घेरने में जुट गये हैं। नीतीश कुमार आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को चुनौती पेश करेंगे। इसमें उन्हें राजद सुप्रीमो लालू मदद करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ऐसे में आने वाले चुनाव में बिहार में भाजपा को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

2020 के विधानसभा चुनाव का आंकड़ा देखें तो राजद को 23.11 प्रतिशत, जदयू को 15.42, कांग्रेस को 9.53 और वामदल को 4.64 प्रतिशत वोट मिला है। इस हिसाब से बिहार में महागठबंधन के पास करीब 48 प्रतिशत वोट बैंक हो जाता है। वहीं भाजपा के 19.46 और लोजपा के 5.66 प्रतिशत वोट शेयर के साथ एनडीए के पास केवल 25 प्रतिशत ही वोट शेयर होता है। ये आकड़ा यदि लोकसभा में भी बना रहा, तो बिहार में अगामी लोकसभा चुनाव में बड़ा नुकसान होगा।

अतीत साक्षी है। लोकसभा चुनाव परिणाम को यदि अपवाद मान लिया जाए तो भाजपा अपने दम पर विधानसभा का कोई चुनाव नहीं जीत सकी है। यहां तक कि 2015 में लालू प्रसाद और नीतीश कुमार की जोड़ी के आगे भाजपा पूरी तरह पस्त नजर आई थी, जबकि उस वक्त तीन क्षेत्रीय दलों से भाजपा का भी गठबंधन था, लेकिन प्रचंड प्रचार अभियान के बावजूद विधानसभा की कुल 243 सीटों में से मात्र 58 पर ही सफलता मिल सकी थी। 

वहीं 2017 में गठबंधन बदल कर फिर से भाजपा के साथ नीतीश कुमार के आ जाने से तस्वीर पलट गई। 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को बिहार की कुल 40 सीटों में 39 पर जीत मिल गई। सिर्फ एक सीट कांग्रेस के खाते में गई। राजद का सुपड़ा साफ हो गया। अगले ही वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा-जदयू ने प्रदेश में बहुमत के साथ सरकार बनाई। 


Find Us on Facebook

Trending News