बिहार के नियोजित शिक्षकों के वरीयता का हुआ निर्धारण, जानिए कौन शिक्षक होंगे वरीय

पटनाः बिहार सरकार ने माध्यमिक और उच्च माध्यमिक नियोजित शिक्षकों की वरीयता का निर्धारण कर दिया है। इस संबंध में शिक्षा विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है।

शिक्षा विभाग ने अपने अधिसूचना में बताया है कि विभागीय आदेश 2178 दिनांक-8.9.2017 के द्वारा जारी आदेश को निरस्त करते हुए उक्त निय़मावली के नियम 8-क के तहत नियोजित शिक्षकों के वरीयता निर्धारण किया गया गया है।

जानिए कौन शिक्षक होंगे वरीय..

1—प्रशिक्षित शिक्षक एवं अप्रशिक्षित शिक्षक में प्रशिक्षित शिक्षक वरीय होंगे

2-वरीयता का निर्धारण संबंधित नियोजन ईकाई अंतर्गत नियोजिन की तिथि एवं प्रशिक्षण योग्यता प्राप्ति की तिथि जो बाद में हो के आधार पर निर्धारित किया जाएगा।

3- कंडिका 2 में वर्णित स्थिति यदि किन्ही 2 शिक्षकों के बीच समान होती हो तो समान विषय के शिक्षक की स्थिति में मेधा सूची में जो शिक्षक उपर होंगे वे वरीय होंगे।यदि दो शिक्षक अल-अलग विषय के होंगे तो जन्म तिथि जिनकी पहले होगी वे वरीय होंगे।जन्म तिथि के समान होने पर अंग्रेजी के शब्दकोश के अनुसार जिस शिक्षक का नाम पहले आएगा वे वरीय होंगे।

4-प्रशिक्षित स्नातकोत्तर उच्च माध्यमिक शिक्षक एवं प्रशिक्षित माध्यमिक शिक्षक में प्रशिक्षित  शिक्षक वरीय होंगे।परंतु प्रशिक्षित उच्च माध्यमिक शिक्षक के नियोजन की तिथि को यदि प्रशिक्षित माद्यमिक शिक्षक जिनकी स्नातकोत्तर की योग्यता तथा कार्यकाल की अवधि दोनो 4 वर्ष पूर्ण हो चुकी हो ,की वरीयता समान होगी।

5-उपर्युक्त परिस्थिति के इतर यदि कोई आपसी वरीयता का मामला उतप्नन होता हो तो निदेशक माध्यमिक शिक्ष के द्वारा उसका निराकरण किया जाएगा।

6- माध्यमिक शिक्षक एवं स्नातकोत्तर के शिक्षक के प्रथम 2 वर्ष की अवधि को परीक्ष्यमान अवधि मानते हुए उक्त वरीयता का लाभ प्रथम दो वर्षों के लिए देय नहीं होगा।इस संबंध में  शिक्षा विभाग ने पत्र जारी कर दिया है।अपने पत्र में सरकार ने स्पष्ट किया है कि इस संदर्भ में पूर्व के तमाम आदेश को संशोधित समझा जाए। 


Find Us on Facebook

Trending News