फर्जी प्रमाण पत्र पर काम करते पकड़े गए 32 नियोजित शिक्षक, बीईओ ने नहीं की कार्रवाई

फर्जी प्रमाण पत्र पर काम करते पकड़े गए 32 नियोजित शिक्षक, बीईओ ने नहीं की कार्रवाई

MOTIHARI : मोतिहारी में फर्जी प्रमाणपत्र पर कार्यरत शिक्षकों पर कार्रवाई करने में पदाधिकारियो के हाथ काँप रहे है. जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा नियोजित शिक्षकों के प्रमाणपत्र जांच में 32 शिक्षकों के प्रमाणपत्र फर्जी निकले थे. प्रमाणपत्र फर्जी निकलने पर डीईओ ने सभी बीईओ को शिक्षकों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया था. डीईओ के निर्देश के एक वर्ष से अधिक समय के बाद भी बीईओ फर्जी प्रमाणपत्र पर नियोजित शिक्षकों पर कार्रवाई करना उचित नहीं समझते. जिसको लेकर जिला में कई तरह की चर्चा है. 

निगरानी विभाग के अलावा शिकायत मिलने पर डीईओ द्वारा 32 नियोजित शिक्षकों का शैक्षणिक प्रमाणपत्र बोर्ड से कराया गया था. जांच में जिला के बंजरिया सहित कई प्रखंडो के 32 नियोजित शिक्षकों का प्रमाणपत्र फर्जी निकला था. फर्जी प्रमाणपत्र पर कार्यरत शिक्षकों के प्रखंडवार सूची के साथ बीईओ को प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश डीईओ द्वारा एक वर्ष पूर्व किया गया था. लेकिन मात्र छह शिक्षकों पर प्राथमिकी दर्ज कर विभाग उसे ठंडा बस्ता में डाल दिया. सूत्रों की माने तो जिला शिक्षा कार्यालय में कार्यरत कई कर्मी के रिश्तेदार भी फर्जी के खेल में शामिल है. जिसके कारण जांच व कार्रवाई बाधित है. 

बंजरिया प्रखंड के छह फर्जी प्रमाणपत्र पर कार्यरत नियोजित शिक्षकों पर छह माह बाद भी प्राथमिकी दर्ज नही होना कई सवालों के घेरे में है. विभागीय सूत्रों के माने तो डीईओ के आदेश के छह माह बाद भी मात्र छह फर्जी प्रमाणपत्र पर कार्यरत नियोजित शिक्षकों पर ही कार्रवाई की गई. बाकी 26 फर्जी प्रमाणपत्र पर नियोजित शिक्षकों पर कार्रवाई करने से विभाग के हाथ क्यों काँप रहे है. सूत्रों की माने तो फर्जी प्रमाणपत्र पर कार्यरत नियोजित शिक्षकों का जिला शिक्षा कार्यालय कर्मियों पर ऊची पकड़ होने के कारण करवाई करने से बीईओ के हाथ काँप रहे है. 

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट  


Find Us on Facebook

Trending News