यूँ ही नहीं अमित शाह को कहा जाता है चाणक्य, भाजपा को फिर से दिलाई सत्ता

यूँ ही नहीं अमित शाह को कहा जाता है चाणक्य, भाजपा को फिर से दिलाई सत्ता

NEWS4NATION DESK: लोकसभा चुनाव 2019 के बाद एक बार फिर देश में एनडीए की सरकार बनने जा रही है. इसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सबसे बड़ा योगदान है. लेकिन प्रधानमंत्री के बाद जो दूसरा नाम आता है, वह है अमित शाह का. अमित शाह को भाजपा के चाणक्य के रूप में देखा जाता है. उनकी रणनीति से भाजपा एक बार जीत का रिकार्ड बना रही है. अमित शाह को सियासी चक्रव्यूह रचने में माहिर माना जाता है. अपने विरोधियों को वे या तो दरकिनार कर देते हैं या फिर उनको अपने पक्ष में कर लेते हैं. इसका सबसे बड़ा कारण है अमित शाह का शतरंज में रूचि लेना. अमित शाह को शतरंज का अच्छा खिलाडी माना जाता है. 2006 में वे गुजरात स्टेट चेस एसोसिएशन के चेयरमैन रह चुके हैं. शतरंज में चलनेवाले चाल को सियासत में भी आजमाते हैं. यही कारण है की वे इतनी बड़ी पार्टी के सबसे सफल राष्ट्रीय अध्यक्ष है.

खाने के शौक़ीन 

काफी व्यस्त दिनचर्या के बावजूद अमित शाह अपनी छोटी मोटी ख्वाहिशों को पूरी करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते. वे खाने के काफी शौकिन है. उन्हें मसालेदार खाना काफी पसंद है. लम्बी यात्रा के दौरान वे शास्त्रीय संगीत सुनते हैं. गायक मुकेश को वे काफी पसंद करते हैं. अंताक्षरी खेलने में उनकी कोई सानी नहीं है. बचपन के दिनों में उन्हें रंगमंच से भी बेहद लगाव था. व्यस्त दिनचर्या के बावजूद वे कभी कभार क्रिकेट में भी हाथ आजमा लेते हैं. 

मेहनती है अमित शाह 

1989 से लेकर 2019 तक अमित शाह तक़रीबन 44 चुनाव लड़ चुके हैं. आज तक एक भी चुनाव में उन्होंने शिकस्त नहीं खाई है. इस बार गाँधीनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. भारी मार्जिन से चुनाव जीत रहे है. इस चुनाव में अमित शाह ने 312 लोकसभा क्षेत्रों का दौरा किया है. तक़रीबन 161 रैलियां की है. 18 जगहों पर रोड शो किया है. 1.58 लाख किलोमीटर यात्रा की है.   


Find Us on Facebook

Trending News