अब दवा बेचेंगे मुकेश अंबानी : अब इस बड़ी ड्रग रिटेल कंपनी का करेंगे अधिग्रहण, लगाई है इतने हजार करोड़ की बोली

अब दवा बेचेंगे मुकेश अंबानी : अब इस बड़ी ड्रग रिटेल कंपनी का करेंगे अधिग्रहण, लगाई है इतने हजार करोड़ की बोली

DESK : एशिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी कई प्रकार के उद्योगों से जुड़े हैं, जिसमें रिलायंस का अपना रिटेल बाजार भी है, जिसमें ट्रेंडस और रिलायंस मार्ट भी शामिल है।  अब यह दिग्गज उद्योगपति दवा के रिटेल कारोबार में भी उतरने की तैयारी में हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने बड़ी ड्रग रिटेलर वालग्रीन्स बूट्स एलायंस के यूके बिजनेस का अधिग्रहण करने के लिए बोली लगाई है और इस डील के काफी करीब पहुंच गए हैं। हालांकि यह तय नहीं है कि इस ड्रग रिटेल के स्टोर्स भारत में खोले जाएंगे या नहीं।

48 हजार करोड़ रुपए लगाई कीमत

बताया जा रहा है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) और US बायआउट फर्म अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट ने अधिग्रहण के लिए बाइंडिंग ऑफर पेश किया है। ब्लूमबर्ग ने इस मामले से जु़ड़े लोगों से बातचीत के आधार पर एक रिपोर्ट पब्लिश की है।  बूट्स की प्रप्रोजल वैल्यू £5 अरब (करीब 48 हजार करोड़ रुपए) से ज्यादा बताई गई है। अगर Walgreens मुकेश अंबानी की अगुआई वाली कंपनी की बोली को स्वीकार कर लेती है, तो यह भारत की सबसे मूल्यवान कंपनी द्वारा सीमा पार का सबसे बड़ा अधिग्रहण होगा।

वहीं कंपनी से जुड़े लोगों ने कहा है कि वालग्रीन लगभग £7 अरब का वैल्यूएशन चाहता है। बूट्स पूरे यूके में 2,200 से ज्यादा स्टोर्स का नेटवर्क चलाता है। वहीं वालग्रीन का प्लान डील के बाद कारोबार में कुछ हिस्सेदारी रखने का है। रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले कुछ हफ्तों में बोली जीतने वाले का ऐलान किया जा सकता है। वालग्रीन का प्लान डील के बाद कारोबार में कुछ हिस्सेदारी रखने का है।

रिलायंस और अपोलो का दावा मजबूत

ब्लूमबर्ग ने बीते दिनों अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि RIL और अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट की कंसोर्टियम के अलावा ब्रिटेन के बिलेनियर इस्सा ब्रदर्स और टीडीआर कैपिटल का कंसोर्टियम भी अधिग्रहण की रेस में थाइस्सा ब्रदर्स को बूट्स का वैल्यूएशन ज्यादा लगा और वो पीछे हट गया। ऐसे में अब RIL और अपोलो की बूट्स के अधिग्रहण की संभावनाएं काफी ज्यादा बढ़ा गई है।

नेटमेड्स में है 60 फीसदी हिस्सेदाली

बूट्स के संभावित अधिग्रहण से स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में आरआईएल की उपस्थिति का काफी विस्तार होगा। कंपनी ने 2020 में चेन्नई स्थित ऑनलाइन फ़ार्मेसी स्टार्टअप नेटमेड्स में 60% हिस्सेदारी का अधिग्रहण  ₹620 करोड़ में किया था। ऊपर बताए गए लोगों में से एक ने कहा कि आरआईएल को जल्द ही विजेता बोली लगाने वाले के रूप में नामित किए जाने की संभावना है। 



Find Us on Facebook

Trending News