अब चश्मा मुक्त होगा बिहार, वेदांता नेत्र विज्ञान केन्द्र में Q-LASIK मशीन का स्वास्थ्य मंत्री ने किया उद्घाटन

PATNA : ऑख से संबंधित रोगों से परेशान और खासकर चश्में को पसंद नहीं करने वाले लोगों को लिए बड़ी खुशखबरी है। अब उन्हें बेहतर इलाज और चश्मे से छुटकारा के लिए प्रदेश से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। पटना में ही वेदांता नेत्र विज्ञान केन्द्र में  उन्हें एक छत के नीचे ही ऑखों से संबंधित सभी रोगों के इलाज की  सारी सुविधाएं मिलेगी।

वेदांता नेत्र विज्ञान केन्द्र, पटना (बिहार) में आज चश्मे से छुटकारा दिलाने वाली सबसे आधुनिक मशीन Q-LASIK का उद्घाटन प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने किया। इस मौके पर प्रदेश के कई जाने-माने चिकित्सक मौजूद रहें।

केन्द्र के निदेशक व जाने-माने नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. नवनीत ने बताया कि यह मशीन चश्में से छुटकारा दिलाने वाली विश्व की सबसे तेज मशीन है। इस मशीन की खासियत यह है कि इससे 1.0 डी को हटाने में मात्र 12-13 सेकेंड का समय लगता है। 

डॉ. नवनीत ने बताया कि 18 साल से उपर के वैसे लोग जिनकी ऑखों का पावर स्टेबल है उनका इलाज इस मशीन द्वारा किया जा सकता है। यह FDA एप्रूव्ड है और पूरी तरह से सुरक्षित और जीवन पर्यंत है। 

निदेशक ने बताया कि वेदांता नेत्र विज्ञान केन्द्र की स्थापना के पीछे हमारा उद्देश्य जहां एक ओर बिहार को पूरी तरह से चश्मा मुक्त बनाना है, वहीं बिहारी प्रतिभा के पलायन को रोक उन्हें पुन: वापस बिहार आने को प्रेरित करना है। 

डॉ. नवनीत ने कहा कि हमारा आगे का लक्ष्य नेत्र कोष एवं नेत्रप्रत्यारोपण की सुविधा प्रदान करना है। ताकि बिहार के लोगों को ऑखों से संबंधित किसी भी बीमारी के इलाज के लिए बाहर नहीं जाना पड़े।  

Find Us on Facebook