अब हवाई जहाज से अफसर लेंगे जायजा कि राज्य में कितनी हुई धान की रोपनी

अब हवाई जहाज से अफसर लेंगे जायजा कि राज्य में कितनी हुई धान की रोपनी

PATNA : जून और जुलाई में कम बारिश होने से राज्य में सूखे की आशंका पैदा हो गयी थी। लेकिन 25 जुलाई से मानसून के सक्रिय होने के बाद अब खरीफ की खेती पटरी पर आ गयी है। मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग के प्रधान सचिव को निर्देश दिया है कि हवाई सर्वेक्षण के जरिये धान की रोपनी की वास्तविक स्थिति का आकलन करें।

28 जिलों में 75 फीसदी से अधिक रोपनी

कृषि विभाग के मुताबिक राज्य के 28 जिलों में 75 फीसदी से अधिक धान की रोपनी हो चुकी है। केवल 10 जिले ही ऐसे हैं जहां इससे कम रोपनी हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि जिन जिलों में कम बारिश हुई है वहां प्रखंडवार रोपनी की स्थिति की पता लगाएं। अगले 10 दिन धान की रोपनी के लिए महत्वपूर्ण हैं। जलसंसाधन विभाग ने नहरों में पानी की उपलब्धता के बारे में सरकार को अवगत करा दिया है।

सारण,वैशाली, मुजफ्फरपुर, जमुई में कम बारिश

बिहार के जिन 30 प्रखंड में 50 फीसदी से कम रोपनी हुई है उस पर नजर रखने का निर्देश दिया गया है। अगर जरूरत पड़े तो वहां के लिए वैकल्पिक बीज रखा जाए ताकि कम पानी में भी पैदावार हो जाए। कृषि विभाग किसानों को स्थिति के मुताबिक फसल बुआई के लिए प्रेरित करे। मौसम विभाग का पूर्वाअनुमान है कि 21 अगस्त के बाद राज्य में अच्छी बारिश होगी। सितम्बर महीने में सामान्य से अधिक वर्षा का अनुमाव लगाया गया है। अगर किसी तरह अभी धान की रोपाई हो जाती है तो उसका बचाव करना संभव हो जाएगा। आज मुख्यमंत्री ने खरीफ की खेती और बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा की।

Find Us on Facebook

Trending News