एनटीपीसी का लैगून थ्रीडी बांध टूटा, 7 परियोजनाओं 4 यूनिट बंद, गहरा सकता है बिजली का संकट, जांच समिति गठित

एनटीपीसी का लैगून थ्रीडी बांध टूटा, 7 परियोजनाओं 4 यूनिट बंद, गहरा सकता है बिजली का संकट, जांच समिति गठित

भागलपुर... एनटीपीसी कहलगांव के लैगून थ्री डी का बांध टूटने से जहां आसपास की सैकड़ों एकड़ जमीन में पानी फैल गया, वहीं बिजली की समस्या भी उत्पन्न हो सकही है। पानी फैलने से खेतों में लगी फसल को बड़े पैमाने पर नुकसान होने का अनुमान है। लैगून थ्री ऐश डाइक के स्पिल-वे के धसने और बांध टूटने से पानी ओवरफ्लो होकर लैगून में जमा हो गया। वहीं पानी ऐश डाइक के अलग बगल धनौरा पंचायत के चांय टोला, मजदाहा, कटोरिया, एकचारी, भोलसर व महेशामुंडा के खेतों में पानी फैल गया।

सूचना मिलने पर एनटीपीसी परियोजना के कार्यकारी निदेशक चंदन चक्रवर्ती, जीएम एचआर जॉन मथाई, जीएम ओएंडएम अरिंदम सिन्हा ने मौके पर पहुंच कर हालत का जायजा लिया। एनटीपीसी प्रबंधन की ओर से बताया गया है कि जांच के लिए उच्चस्तरीय तकनीकी समिति का गठन कर दिया गया है। फिलहाल सुरक्षात्मक उपाय के तौर पर परियोजना की चार यूनिट बंद को कर दिया गया है और प्रभावित स्थल पर टीम लगातार निगरानी कर रही है।

बता दें कि 2340 मेगावाट क्षमता वाली इस परियोजना से केवल दो यूनिट से ही बिजली का उत्पादन हो रहा है, जबकि 1420 मेगावाट बिजली उत्पादन ठप्प है। दरअसल, सभी यूनिटों से निकलने वाले राख मिश्रित पानी को ऐश डाइक डैम में स्टोर किया जा रहा था। अचानक तटबंध पर दबाब बनने के कारण वह क्षतिग्रस्त हो गया। इससे बिजली संकट गहराने की भी आशंका है।

किसानों ने मांगा मुआवजा

नवनर्मित ऐश डाइक का तटबंध क्षतिग्रस्त होने के बाद खेतों में फैले पानी से आक्रोशित ग्रामीणों ने महाप्रबंधक समेत कार्यकारी निदेशक से मिलकर फसल क्षति को लेकर मुआवजे की मांग की हैं इससे पहले इसी साल 6 अगस्त को भी ऐश डाइक का लैगून-टू का तटबंध टूटा था और उससे भारी क्षति हुई थी। एनटीपीसी का ऐश डाइक का डैम क्षतिग्रस्त हो गया था। हरेक बार ऐश डाइक के डैम क्षतिग्रस्त के बाद जांच के लिए उच्चस्तरीय जांच कमिटी बनी और रिपोर्ट भी दी गई।


Find Us on Facebook

Trending News