राजद के ए टू जेड की पार्टी के दावों पर विरोधियों ने किया अनोखा पोल खोल

राजद के ए टू जेड की पार्टी के दावों पर विरोधियों ने किया अनोखा पोल खोल

पटना. राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने हाल के दिनों में खुद को ए टू जेड की पार्टी बताकर एक नया सामाजिक सन्देश देने की कोशिश की है. लेकिन अब विरोधियों ने राजद के ए टू जेड के दावे पर ही निशाना साधा है. राजद को निशाने पर लेते हुए पटना की सड़क पर एक पोस्टर लगाकर विरोधियों ने बताया है कि राजद के ए टू जेड का मतलब हर पद पर लालू-राबड़ी परिवार के लोगों का कब्जा करना है. 

राजद पर निशाना साधते हुए बेली रोड में जो पोस्टर लगाया गया है उसमें ऊपर की चार तस्वीरों में लालू यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष, राबड़ी देवी को नेता प्रतिपक्ष बिहार विधान परिषद, तेजस्वी यादव को नेता प्रतिपक्ष विधान सभा, मीसा भारती को सांसद और तेज प्रताप यादव को विधायक बताते हुए तंज कसा गया है. लालू-राबड़ी और उनके बेटे-बेटियों को सारे महत्वपूर्ण पदों पर दिखाया गया है. लालू को महाराजा, राबड़ी देवी को महारानी, तेजस्वी और तेज प्रताप को राजकुमार और मीसा को राजपुत्री लिखा गया है. 

इसके अलावा पोस्टर के निचले भाग में विधायक भाई वीरेंद्र, शिवानंद तिवारी, राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, अब्दुलबारी सिद्धीकी, श्याम रजक, उदय नारायण चौधरी और एमएलसी सुनील सिंह की तस्वीर है. पोस्टर पर ऊपर बड़े अक्षरों में लिखा है ए टू जेड फैमिली पार्टी. इनका उसूल है, जबतक काम है तबतक नाम है. बाकी दूर से ही सलाम है. लालू परिवार की तस्वीर के नीचे लिखा है, हे स्वार्थ तेरा शुक्रिया. एक तू ही है, जिसने लोगों को आपस में जोड़े रखा है.

हालांकि यह नहीं बताया गया है कि इस पोस्टर को किसने लगाया है. माना जा रहा है कि राजद के ए टू जेड के दावों का मतलब परिवारवाद को बढ़ावा देने के लिए राजद के विरोधियों ने यह पोस्टर लगाया है. दरअसल राजद ने ए टू जेड की पार्टी बताते राजद का मतलब सभी जाति और धर्म को साथ लेकर चलने वाली पार्टी के रूप में पेश किया है. 



Find Us on Facebook

Trending News