हार के डर से घबराया विपक्ष! पहले फेज की वोटिंग के बाद फिर उठाया EVM में छेड़छाड़ का मुद्दा

हार के डर से घबराया विपक्ष! पहले फेज की वोटिंग के बाद फिर उठाया EVM में छेड़छाड़ का मुद्दा

NEW DELHI : पहले चरण की वोटिंग के बाद क्या विपक्षी दलों को हार का डर सता रहा है। ये सवाल इसलिए क्योंकि विपक्षी दलों ने ईवीएम का रोना फिर से शुरु कर दिया है। चुनाव प्रचार बीच में छोड़कर दिल्ली पहुंचे कई बड़े विपक्षी दलों की बैठक में ईवीएम पर सवाल उठाए गए। दलों ने ईवीएम के मुद्दे पर एकबार फिर से सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही है। बैठक में कम से कम छह विपक्षी दलों ने शिरकत की। दलों ने ईवीएम पर सवाल उठाते हुए बैलट पेपर से वोटिंग की वकालत की। बीजेपी ने विपक्ष की इस बैठक को हार स्वीकार करने वाला बताया है।

'संविधान बचाओ' के नारे के तहत आयोजित इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस की ओर से वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू समेत कई नेता शामिल हुए। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'पहले चरण के चुनाव के बाद ईवीएम पर सवाल उठे हैं, हमें नहीं लगता कि चुनाव आयोग इसपर पर्याप्त ध्यान दे रहा है। अगर आप X पार्टी को वोट देते हैं तो वोट Y पार्टी को जाता है। वीवीपैट में भी पर्ची 7 सेकंड की जगह केवल 3 सेकंड दिखती है।' 

बीजेपी ने कसा तंज

बीजेपी ने विपक्षी दलों की बैठक पर तंज कसते हुए कहा कि तथाकथित गठबंधन को हार का डर सता रहा है। बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा ने कहा कि दिल्ली में जो तथाकथित विपक्षी दलों की बैठक हुई है वह महागठबंधन की हार स्वीकार करने वाली बैठक है उन्होंने कहा कि यह साफ है कि महागठबंधन के पास न तो कई गर्वनेंस का अजेंडा है और न लोगों को बताने के लिए कोई लीडरशिप है। जनता ने विपक्षी दलों को रिजेक्ट कर दिया है।

Find Us on Facebook

Trending News