चीनी कंपनी को दे दिया हजारों रेल पहिया बनाने का ऑर्डर, मोदी सरकार के फैसले पर विपक्ष ने पूछा यह कैसा विरोध

चीनी कंपनी को दे दिया हजारों रेल पहिया बनाने का ऑर्डर, मोदी सरकार के फैसले पर विपक्ष ने पूछा यह कैसा विरोध

DESK. केंद्र की मोदी सरकार ने चीन की एक कंपनी को भारतीय रेलवे के लिए 39 हजार रेल पहिया बनाने का ऑर्डर दिया है. यह जानकारी संसद में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दी. उन्होंने बताया कि भारतीय रेलवे ने चीनी निर्माता कंपनी ताइयुआन से LHB कोचों के लिए 39,000 पहियों की खरीद का ऑर्डर दिया है. ऑर्डर भारतीय रेलवे की ओर M/s TZ (Taizhong), हांगकांग की निर्माता मैसर्स ताइयुआन, चीन के साथ हुई है. उन्‍होंने बताया कि इससे पहले LHB कोच के लिए 30,000 पहियों के लिए स्वीकृति पत्र (LOA) यूक्रेन की M/s KLW को दी गई थी.

दरअसल, भारत ने पहले रेल पहिया बनाने का ऑर्डर यूक्रेन की एक कंपनी को दिया था. लेकिन रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध होने के कारण यूक्रेन की कंपनी अब इस स्थिति में नहीं है कि वह पहिया का ऑर्डर पूरा कर सके. इसलिए भारतीय रेल ने चीन की कंपनी को पहिया बनाने का ऑर्डर दिया है. वैष्णव के अनुसार  यूक्रेन की एक फर्म की ओर से पेश किए गए ऑफर से चीन की कंपनी प्रति पहिए पर 1.68 प्रतिशत अधिक मूल्य वसूलेगी. बावजूद इसके महंगा पहिया होने के बाद भी चीन की कंपनी को 39 हजार पहिया बनाने का ऑर्डर दिया गया है. 

वैष्‍णव ने कहा कि आपूर्ति प्रभावित होने के बाद M/s KLW ने यूक्रेन में युद्ध संकट के कारण डील पूरी करने में असमर्थता जताई और फोर्स मेज्योर क्लॉज लागू किया. इस कारण से औपचारिक खरीद ऑर्डर यूक्रेनी फर्म को जारी नहीं किया जा सका. किसी भी आपदा के कारण अगर डील पूरी नहीं होती है तो करार को समाप्‍त किया जा सके इसके लिए फ़ोर्स मैच्योर क्लॉज जारी किया जाता है. चुकी यूक्रेन युद्ध से जूझ रहा है इसलिए  फ़ोर्स मैच्योर क्लॉज के तहत चीन की कंपनी को ऑर्डर प्लेस किया गया है.

वहीं चीन की कंपनी को 39 हजार पहियों का ऑर्डर देने पर विपक्ष ने केंद्र सरकार पर चुटकी ली है. विपक्ष के नेताओं ने सवाल किया कि जब देश में मेक इन इंडिया की सफलता का दावा किया जा रहा है तो चीन की कंपनी को ऑर्डर करना क्या दर्शाता है? चीन का यह कैसा विरोध है. 


Find Us on Facebook

Trending News