बिहार की महिला जेल वार्डनों के लिए छह दिवसीय कार्यशाला का आयोजन, तनावमुक्त जीवन जीने की कला सिखाई गई

बिहार की महिला जेल वार्डनों के लिए छह दिवसीय कार्यशाला का आयोजन, तनावमुक्त जीवन जीने की कला सिखाई गई

पटना. बिहार राज्य के जेलों में नवनियुक्त महिला जेल वार्डनों के लिए आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा आयोजित 6 दिवसीय हैप्पीनेश प्रोग्राम कार्यशाला का आज समापन किया गया। बिहार के तत्कालीन कारा महानिरीक्षक मिथिलेश मिश्रा की विशेष पहल पर बिहार सुधारात्मक प्रशासनिक संस्थान (हाजीपुर) में इस 6 दिवसीय शिविर का आयोजन किया गया था। शिविर में जेल वार्डनों ने योग, प्राणायाम ध्यान के साथ-साथ सुदर्शन क्रिया सहित तनावमुक्त जीवन जीने की कला सीखी।

कार्यक्रम में बिहार के 100 महिला वार्डन शामिल हुईं। कार्यक्रम में शामिल सभी का अनुभव बहुत ही शानदार रहा। कार्यक्रम में शामिल महिला जेल वार्डनों ने बताया कि इस कार्यक्रम में उन्होंने रोज-रोज के जीवन में आने वाली छोटी बड़ी समस्याओं से निपटने के साक-साथ तनावरहित एवं स्वस्थ्य जीवन जीने के गुर सीखे हैं, जो भविष्य में उनके लिये काफी उपयोगी सिद्व होगी। उन्होंने बताया कि इस कार्यशाला को करने के बाद अपने कर्तव्यों को और भी निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ कार्यान्वित करने के लिए एक नई उर्जा एवं प्रेरणा मिली है। सभी ने इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन के लिए बिहार कारा प्रशासन एवं आर्ट ऑफ लिविंग के प्रति आभार व्यक्त किया। इस कार्यक्रम का सफल संचालन आर्ट ऑफ लिविंग के प्रशिक्षिका ज्योति सिन्हा (पटना समन्वयक) तथा ममता शाह द्वारा किया गया।

कारा सुधार विभाग, बिहार सरकार द्वारा कैदियों के जीवन स्तर में सुधार तथा उनके तनाव के स्तर को कम करने एवं भविष्य में उन्हें समाज की मुख्य धारा में शामिल होकर खुशहाल जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्वेश्य से आर्ट ऑफ लिविंग के साथ एक संयुक्त कार्यक्रम बनाया गया है, जिसके तहत आर्ट ऑफ लिविंग के प्रशिक्षकों द्वारा राज्य के सभी जेलों में बंद कैदियों एवं जेल से संबंधित कर्मियों तथा पदाधिकारियों के लिए इस तरह के कार्यकम चलाये जा रहे हैं।

इसी कड़ी में बिहार कारा सुधार प्रशासन की पहल पर आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा बिहार के नवनियुक्त महिला जेल वार्डनों के लिए हैप्पीनेश कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आर्ट ऑफ लिविंग की वरिष्ठ प्रशिक्षिका ज्योति सिंहा एवं ममता साह द्वारा सभी महिला वार्डनों को योग, प्राणायाम, ध्यान के साथ साथ तनावमुक्त एवं खुशहाल जीवन जीने की कला सिखाई गई। 

कारा सुधार विभाग के सहयोग से आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा प्रिजन स्मार्ट कार्यकम के तहत राज्य के सभी जेलों में इस तरह के कार्यकम का आयोजन किया जा रहा है। इसके लिए कारा सुधार विभाग बिहार एवं आर्ट ऑफ लिविंग के बीच एकरारनामा भी किया गया है। आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा विश्व के 150 से भी अधिक देशों में प्रिजन स्मार्ट कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसके फलस्वरूप लाखों कैदियों को लाभ हुआ है।

Find Us on Facebook

Trending News