जल जीवन हरियाली दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, ऊर्जा मंत्री बोले- ग्लोबल वार्मिंग से बचने के लिए सौर ऊर्जा को अपनाना होगा

जल जीवन हरियाली दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, ऊर्जा मंत्री बोले- ग्लोबल वार्मिंग से बचने के लिए सौर ऊर्जा को अपनाना होगा

पटना. ऊर्जा विभाग में जल जीवन हरियाली मिशन दिवस मनाया गया। साथ ही 'सौर ऊर्जा उपयोग का प्रोत्साहन एवं ऊर्जा की बचत' विषय पर परिचर्चा भी की गयी। कार्यक्रम की शुरुआत बिहार के ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने की। इस दौरान ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जल और हरियाली, जीवन के आवश्यक तत्व हैं। आज ऊर्जा विभाग की जिम्मेदारी काफी बढ़ गई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जल जीवन हरियाली मिशन का परिणाम काफी सकारात्मक है। हम अपने विकास के लिए प्रकृति के साथ छेड़छाड़ करते आ रहे हैं। हालांकि अब समय की यह मांग है कि हम सतत विकास का रास्ता अपनाएं। आज रिन्यूअल एनर्जी समय की मांग है। हमें हर हाल में कार्बन उत्सर्जन को घटाना होगा नहीं तो आने वाली पीढ़ी हमें कभी माफ़ नहीं करेगी। ग्लोबल वार्मिंग एवं प्रदूषण से बचना है, तो हमें अक्षय ऊर्जा का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना होगा।

वहीं बीएसपीएचसील के सीएमडी संजीव हंस ने कहा कि यह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की दूरगामी सोच का परिणाम है कि बिहार सतत विकास के पथ पर अग्रसर है। मुख्यमंत्री ग्रामीण सोलर स्ट्रीट लाइट योजना के तहत 14 लाख लाइट लगायी जाएंगी, जिससे गांव समृद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री एवं मंत्री के दिशा निर्देश में राज्य में सौर ऊर्जा की दिशा में काफी काम हो रहा है। हमें गैर जीवाश्म ईंधन को बढ़ावा देना होगा। राज्य के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों (राजगीर, बोधगया) पर 24 घंटे हरित ऊर्जा के माध्यम से बिजली उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। नवी एवं नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए कजरा एवं पीरपैंती में 400-450 MW क्षमता के सौर ऊर्जा परियोजना का कार्य शुरू कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि पंप स्टोरेज सिस्टम की दिशा में काफी सकारात्मक काम हो रहे हैं। रोहतास के दुर्गावती डैम में 30 मेगावाट और नवादा फुलवरिया डैम में 20 मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन की दिशा पर कार्य हो रहा है। सतलज जल विद्युत निगम दुर्गावती डैम पर पंप स्टोरेज सिस्टम पर सर्वे का कार्य कर रहा है। सुपौल में फ्लोटिंग बिजली घर इस माह से उत्पादन शुरू कर देगा। इसके अलावा ऊर्जा विभाग परिवहन विभाग के साथ मिलकर इलेक्ट्रिक वाहन के चार्जिंग प्वाइंट के लिए आधारभूत संरचना के निर्माण में सहयोग कर रहा है। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के द्वारा जिस बिल्डिंग में 100 KW बिजली की खपत है, उस परिसर को हरित बिल्डिंग बनाने का कार्य किया जा रहा है। इको निवास संहिता पर भी काम हो रहा है, जिसका फायदा बिहार के लोगों को मिलेगा।

जल-जीवन हरियाली मिशन के निदेशक राहुल कुमार ने कहा कि सौर ऊर्जा को प्रोत्साहन एवं ऊर्जा की बचत जल-जीवन-हरियाली मिशन का दसवां कंपोनेंट है। राज्य की भागौलिक संरचना के कारण यहां अक्षय ऊर्जा की अपार संभावनाएं हैं क्योंकि यहां 300 दिन आसमान बिल्कुल साफ रहता है। मिशन के फेस 1 में 2000 भवनों पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाए गए हैं और मिशन फेस 2 में 8000 सरकारी और 3000 से अधिक निजी भवनों पर सौर संयंत्र लगाने का लक्ष्य है। सभी विभागों को ऊर्जा बचाने के लिए मिलकर काम करना होगा। विदेशों में सौर ऊर्जा को लेकर नायाब प्रयोग हो रहे हैं, बिहार में भी प्रयोग करने की जरूरत है।

एनबीपीडीसीएल के एमडी प्रभाकर ने कहा कि बिहार में बिलिंग क्षेत्र में काफी सुधार हुआ है। हर घर बिजली लगाने का शत फीसदी लक्ष्य पूरा हो गया है। आज उपभोक्ता की संख्या 1.80 करोड़ है। ऐसे में हमारी जिम्मेदारी बढ़ गयी है। बिलिंग क्षेत्र में सुधार के लिए हमने मैनुअल से डिजिटल बिलिंग की तरफ रुख किया है। डिजिटल बिलिंग से कई फायदे हुए हैं। जैसे उपभोक्ताओं को समय से त्रुटिहीन बिजली विपत्र मिल जाता है। हमने डिजिटल बिलिंग के लिए Suvidha App एवं Bihar Bijli Smart Meter App बनाया है। 

अब 85 फीसदी तक हो रही रिकवरी

एसबीपीडीसीएल के एमडी महेंद्र कुमार ने कहा कि ऊर्जा बचत की दिशा में ही स्मार्ट प्रीपेड मीटर पर तेजी से काम हो रहा है। आज हम ऑपरेशन इफ़िशन्सी पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने में बिहार देश ही नहीं विश्व में अव्वल है। ग्रामीण इलाकों में 36 लाख मीटर और शहरी क्षेत्र में 23.50 लाख मीटर लगाने का लक्ष्य रखा गया है। हम स्मार्ट मीटर से स्मार्ट ग्रिड की ओर बढ़ रहे हैं। हम साइबर सिक्योरिटी सिस्टम को मजबूत बनाने पर भी काम कर रहे हैं। बिहार में अब तक कुल 9.50 लाख से ज्यादा स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जा चुके हैं। स्मार्ट मीटर से जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के लिए हम समय समय पर वर्कशॉप का आयोजन तो करते ही हैं, साथ ही #socialmedia के मध्यम से भी उपभोक्ताओं को जागरूक करते हैं। इसके अलावा कई जगहों पर हमनें पारंपरिक मीटर एवं स्मार्ट मीटर लगा कर उपभोक्ताओं को यह दिखाया है कि दोनों मीटर के रीडिंग में कोई फर्क नहीं है।

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जल जीवन हरियाली मिशन की शुरुआत वर्ष 2019 में की थी, जिसमें 15 विभागों को शामिल किया गया था। मिशन की सराहना देश ही नहीं बल्कि यूएनओ में भी हुई थी। जल जीवन हरियाली मिशन से बिहार को काफी फायदा हुआ है।

Find Us on Facebook

Trending News