पटना में ई-लाइब्रेरी पर उन्मुखीकरण कार्यशाला का हुआ आयोजन, विशेषज्ञों ने डिजिटल लाइब्रेरी के महत्व पर की चर्चा

पटना में ई-लाइब्रेरी पर उन्मुखीकरण कार्यशाला का हुआ आयोजन, विशेषज्ञों ने डिजिटल लाइब्रेरी के महत्व पर की चर्चा

PATNA : बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद पटना के सभागार में एक दिवसीय ई- लाइब्रेरी पर उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रुप में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह शामिल हुए। विशेषज्ञ के रूप में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ देवेंद्र कुमार सिंह एवं सूचना वैज्ञानिक मनीष कुमार सिंह मौजूद रहे। INFLIBNET सेंटर से अभिषेक कुमार विशेषज्ञ के रूप में मौजूद रहे। कार्यशाला में बिहार राज्य उच्च शिक्षा परिषद पटना के उपाध्यक्ष डॉ कामेश्वर झा, सचिव शिक्षा विभाग असंगबा चुबा आओ, बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय पटना के कुलपति प्रोफेसर रामेश्वर सिंह और बिहार राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के नोडल पदाधिकारी उपस्थित रहे।

बिहार राज्य उच्च शिक्षा परिषद के सदस्य सचिव सह राज्य परियोजना निदेशक असंगबा चुबा आओ ने कहा की ई लाइब्रेरी और डिजिटल लाइब्रेरी का महत्व काफी बढ़ गया है। इसके तहत पारंपरिक पुस्तकालयों को ई-कंटेंट और ई किताबों के माध्यम से छात्रों तक आसानी से पहुंचाते हुए विद्यार्थियों में रुचि उत्पन्न किया जा सकता है। पुस्तकालय एक ऐसा माध्यम है जिससे विद्यार्थी एवं रिसर्च स्कॉलर ज्ञान अर्जित कर अपने लक्ष्य  की प्राप्ति कर सकते हैं। 

बिहार राज्य उच्च शिक्षा परिषद के उपाध्यक्ष डॉ कामेश्वर झा ने कहा कि पूर्व में भी छात्रों को लाइब्रेरी से पुस्तक की उपलब्धता और उसको उपलब्ध कराना एक जटिल प्रक्रिया थी। साथ ही किसी खास तरह के पुस्तक अधिक बच्चों को उपलब्ध करा पाना अधिक मुश्किल होता था। लेकिन ई लाइब्रेरी के माध्यम से एक ही पुस्तक के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सकते हैं। उन्होंने कहा कि आज इस कार्यशाला में तकनीकी रिसोर्स के रूप में उपस्थित विशेषज्ञ द्वारा जो भी कहा जाएगा। उसको बिहार के रिमोट एरिया में स्थित महाविद्यालय तक पहुंचाया जाएगा। 

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य प्रमुख सचिव ने बताया कि ई लाइब्रेरी शिक्षा प्राप्त करने का अच्छा माध्यम है। बिहार के विश्वविद्यालयों द्वारा कदम से कदम मिलाकर तरीको उन्नत करना बहुत आवश्यक है। विश्वविद्यालयों को किसी प्रकार की सहायता के लिए राज्य सरकार कटिबद्ध है। बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ रामेश्वर सिंह ने कहा कि यूजीसी द्वारा ई लाइब्रेरी के लिए बहुत ही पहल की गई है। इसका विस्तृत विवरण देते हुए उन्होंने कहा कि संस्थान इसका लाभ ले सकते हैं। शोध के लिए ई लाइब्रेरी अति आवश्यक है।  

Find Us on Facebook

Trending News